Breaking News
Panchmahal की भवय इमारत
Panchmahal की भवय इमारत

Panchmahal की भवय इमारत

पंचमहल Panchmahal का निर्माण मुगल बादशाह अकबर द्वारा करवाया गया था। यह इमारत फतेहपुर सीकरी किले की सबसे ऊँची इमारत है। पिरामिड आकार में बने पंचमहल को हवामहल भी कहा जाता है। इसकी पहली मंजिल के खम्भों पर शेष मंजिलों का सम्पूर्ण भार है। पंचमहल या हवामहल मरियम-उज्-जमानी के सूर्य को अर्घ्य देने के लिए बनवाया गया था। यहीं से अकबर की मुस्लिम बेगमें ईद का चाँद देखती थीं।

Panchmahal के बारे में

फतेहपुर सीकरी में जोधाबाई महल से निकल कर सामने की ओर ही सुनहरा मकान और Panchmahal पंचमहल है। पंचमहल के बारे में कहा जाता है कि शाम के वक्तबादशाह यहाँ अपनी बेगमों के साथ हवाखोरी करता था। 176 भव्य नख्काशी खम्भों पर पंचमहल खड़ा है। प्रत्येक खम्भे की नख्काशी अलग किस्म की है। सबसे नीचे की मंजिल पर 84 और सब से ऊपर की मंजिल पर 4 खम्भे हैं।

पंचमहल इमारत नालन्दा में निर्मित बौद्ध विहारों से प्रेरित लगती है। नीचे से ऊपर की ओर जाने पर मंजिलें क्रमशः छोटी होती गई हैं। महल के खम्बों पर फूल-पत्तियाँ, रुद्राक्ष के दानों से सुन्दर सजावट की गई है। मुगल बादशाह अकबर के इस निर्माण कार्य में बौद्ध विहारों एवं हिन्दू धर्म का प्रभाव स्पष्टतः दिखाई पड़ता है।

पंचमहल के समीप ही मुगल राजकुमारियों का मदरसा है। मरियम-उज्-जमानी का महल प्राचीन घरों के ढंग का बनवाया गया था। इसके बनवाने तथा सजाने में अकबर ने अपने रानी की हिन्दू भावनाओं का विशेष ध्यान रखा था। भवन के अंदर आंगन में तुलसी के बिरवे का थांवला है और सामने दालान में एक मंदिर के चिह्न हैं। दीवारों में मूर्तियों के लिए आले बने हैं। कहीं-कहीं दीवारों पर कृष्णलीला के चित्र हैं, जो बहुत मद्धिम पड़ गए हैं। मंदिर के घंटों के चिह्न पत्थरों पर अंकित हैं। इस तीन मंजिले घर के ऊपर के कमरों को ग्रीष्मकालीन और शीतकालीन महल कहा जाता था। ग्रीष्मकालीन महल में पत्थर की बारीक जालियों में से ठंडी हवा छन-छन कर आती थी।

 

About Samar Saleel

Check Also

दूध के साथ कभी नही खानी चाहिए ये चीज़े…

हम सभी जानते हैं कि दूध में ढेर सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *