अगर नाश्ते में ब्रेड खाना है पसंद, तो एक बार ये जरुर पढ़ें…

ब्रेड एक ऐसी चीज हैं, जिसे अमूमन नाश्ते में खाया जाता है। कभी इसे सैंडविच तो कभी ब्रेड बटर तो कभी पकौड़े, न जाने कितने ही रूपों में इसका सेवन किया जाता है। वैसे भी सुबह नाश्ते की बात हो तो सबसे पहले ब्रेड का ही ख्याल दिमाग में आता है। यूं तो मार्केट में कई तरह की ब्रेड मिलती हैं, लेकिन लोग घरों में व्हाइट ब्रेड का ही इस्तेमाल ज्यादा करते हैं। अगर आपकी गिनती भी ऐसे ही लोगों में होती है तो हम आपको बता दें कि जरूरत से ज्यादा ब्रेड का सेवन सेहत को नुकसान भी पहुंचा सकता है। तो चलिए जानते हैं व्हाइट ब्रेड का सेवन रोजाना करने से होने वाले कुछ नुकसानों के बारे में−

पोषण की कमी
व्हाइट ब्रेड खाने का एक सबसे बड़ा नुकसान यह होता है कि इससे आपको किसी तरह का पोषण नहीं मिलता। दिन की शुरूआत में जब आपको एनर्जी और पोषण की जरूरत होती है, उस समय ब्रेड खाकर आप पेट तो भर लेते हैं, लेकिन पोषण से कोसों दूर रह जाते हैं। व्हाइट ब्रेड में न ही किसी प्रकार का प्रोटीन होता है ना ही विटामिन होता है और न ही फाइबर। वैसे एक ओर जहां ब्रेड से आपको पोषण नहीं मिलता, वहीं दूसरी ओर यह व्हाइट ब्रेड अन्य खाद्य पदार्थों के पोषक तत्वों के अवशोषण में भी रूकावट पैदा करते हैं। इसमें कुछ ऐसे एंटी न्यूटि्रएंट्स पाए जाते हैं, जो कैल्शियम, आयरन और जिंक के अवशोषण को रोकते हैं इसलिए अपनी डाइट में व्हाइट ब्रेड को जितना हो सके, दूर ही रखें।
बढ़ता कमर का घेरा
अगर आप अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं तो एक बार अपने नाश्ते पर भी नजर डालिए। आपको शायद पता न हो लेकिन व्हाइट ब्रेड के कारण वजन बढ़ने लगता है। दरअसल, व्हाइट ब्रेड को खाने के बाद ब्लड शुगर लेवल और इंसुलिन तेजी से बढ़ता है और उतनी ही तेजी से नीचे भी आता है। ऐसे में ब्लड शुगर लेवल में तेजी से उतार−चढ़ाव अत्यधिक भूख का कारण बनता है। ऐसे में व्यक्ति को बार−बार भूख लगती है और ओवरईटिंग के कारण उसका वजन बढ़ने लगता है। अगर आप ब्रेड खाना ही चाहते हैं तो व्हाइट ब्रेड के स्थान पर आटे की बनी ब्रेड का सेवन करें और वह भी सीमित मात्रा में।

About Jyoti Singh

Check Also

दिल के आकार जैसी दिखने वाली पत्तियों वाले इस पौधेे में लगते है ऐसे फल, टूटी हड्डियों के लिए है रामबाण

हड़जाेड़ ( Hadjod ) को आयुर्वेद में हड्डी जोड़ने की अच्छा दवा बताया गया है. इसे अस्थि संधानक या अस्थिशृंखला ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *