Breaking News
70 trucks full of stones reached in Ayodhya
70 trucks full of stones reached in Ayodhya

राम मंदिर : अयोध्या में मंगवाए गए पत्थर से भरे 70 ट्रक

लखनऊ। लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की कवायत एकबार फिर से तेज हो चली है। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर का मुद्दा उठाते हुए सरकार से इसके लिए कानून बनाने की मांग की है। इतना ही नहीं सूत्र बता रहे हैं कि राम मंदिर निर्माण को गति देने के इरादे से विश्व हिंदू परिषद ने पत्थरों से भरे दर्जनों ट्रक का ऑर्डर भी दे दिया है। जिसके लिए पत्थरों को तरसने के लिए शिल्पकारों से बाकायदा बात भी चल रही है।

राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थर का ऑर्डर

गौरतलब होकि 29 अक्टूबर से सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को लेकर सुनवाई शुरू होने वाली है। विश्व हिन्दू परिषद फैसला अपने पक्ष में आने को लेकर पूर्ण आश्वस्त दिख रहा है। जिसके बाद मंदिर निर्माण में बिना देरी किए जुट जाने के इरादे से निर्माण के लिए मिर्जापुर,राजस्थान और गुजरात से पत्थर मंगवाने का ऑर्डर भी कर दिया है।

यह लड़ाई सच्चाई की जीत की लड़ाई : चंपत राय 

वीएचपी सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक मंदिर को कानूनी रूप से हरी झंडी मिलते ही तीन मंजिला भव्य मंदिर बनवाने का काम तुरंत शुरू हो जाएगा। वीएचपी के अंतर्राष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय के मुताबिक तेजी से काम करने के लिए ज्यादा से ज्यादा पत्थरों और कारीगरों की आवश्यकता होगी। उसके लिए अभी से मंदिर निर्माण योजना में जुटना होगा। अब पीछे हटने का सवाल नहीं उठता है,यह लड़ाई सच्चाई की जीत की लड़ाई है।

चुनाव करीब आते ही वीएचपी हलचल बढ़ी

उधर बाबरी मस्जिद के मुख्य पक्षकार इकबाल अंसारी इस पूरे प्रकरण से नाखुश नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि जबतक मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है ऐसे में प्रदेश सरकार को विश्व हिन्दू परिषद को कार्य आगे बढ़ाने से रोकना चाहिए। इकबाल का कहना है कि जब भी देश या प्रदेश में चुनाव करीब आते हैं तो अचानक वीएचपी मंदिर निर्माण को लेकर सक्रीय हो जाती है।

About Samar Saleel

Check Also

सोनिया गांधी ने लगाए मोदी सरकार पर संगीन आरोप कहा- ‘आरटीआई कानून ख़त्म’

लोकसभा में सूचना के अधिकार कानून संशोधन विधेयक को लेकर कांग्रेस पार्टी संसदीय दल की नेता व UPA चेयरपर्सन ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *