Hitler की पसंदीदा कार बीटल का उत्पादन होगा बंद

न्यूयॉर्क। जर्मन तानाशाह हिटलर Hitler की पसंदीदा कार बीटल उत्पान के अंतिम दिनों की गिनती कर रही है। एक समय इस कार ने आम लोगों की कार के तौर पर दुनियाभर में धूम मचायी थी। पिछले 70 साल से इसने दुनियाभर की सड़कों पर खास पहचान बनाई है।

फोक्सवैगन ने Hitler की कार

हिटलर Hitler की पसंदीदा कार बीटल बनाने वाली जर्मन कंपनी फोक्सवैगन ने कहा है कि वह इसके अंतिम संस्करणों के एक जोड़े का उत्पादन करके 2019 में इसका उत्पादन बंद कर देगी। कंपनी अब इलेक्ट्रिक वाहनों और बड़े परिवार को ध्यान में रखकर तैयार की जा रही कारों पर ध्यान केंद्रित कर रही है। इसलिए उसकी प्रथमिकता में बीटल हासिए से भी बाहर पहुंचने की कगार पर है।
अमेरिका में फोक्सवैगन ग्रुप के सीईओ हिनरिक वोएबकेन ने एक बयान जारी करके कहा, “हम अमेरिकी परिवारों की जरूरत के हिसाब से उपयुक्त वाहनों और इलेक्ट्रिफिकेशन पर ध्यान दे रहे हैं। हालांकि मैं यह भी कहना चाहूंगा कि कभी भी, कभी नहीं कहना चाहिए।“

उन्होंने कहा, “तीन पीढ़ियों और करीब सात दशकों से अधिक समय बाद बीटल का बंद होना इसके समर्पित प्रशंसकों की भावनाओं को स्पंदित करेगा।“फोक्सवैगन ने कहा कि उसकी योजना बीटल के दो अंतिम संस्करण पेश करने की है। इसकी कीमत 23,045 डॉलर और इससे अधिक हो सकती है।
नाजी जर्मनी में अवतरित यह कार कालांतर में एक वैश्विक परिघटना बनकर उभरी। फर्डिनांड पॉर्श ने इसे हिटलर के समर्थन से विकसित किया था। पॉर्श ने हिटलर के संरक्षण में 1937 में सार्वजनिक वाहन कंपनी फोक्सवैगनवर्क यानी आम लोगों की कार बनाने वाली फैक्ट्री (कंपनी) गठित की थी। दूसरे विश्वयुद्घ के बाद मित्र राष्ट्रों ने जर्मनी के वाहन उद्योग को बदहाली से बाहर निकालने के लिए फोक्सवैगन को प्राथमिकता दी।“दी लव बग“ से मिली लोकप्रियतासेडान बीटल को अमेरिका में पहली बार 1950 के दशक में उतारा गया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *