Ukraine : रूस के पुरूषों पर लगाया प्रतिबंध

यूक्रेन Ukraine ने 16 से 60 आयु वर्ग के रूस के पुरुषों के अपने देश में आने पर प्रतिबंध लगा दिया है। उसने यह कदम रूस द्वारा उसके नौसेना के जहाजों पर फायरिग करने और नाविकों का अपहरण करने के बाद लगाए गए मार्शल लॉ के तहत उठाया है।

वहीं, मास्को में आरआइए न्यूज एजेंसी ने एक रूसी सांसद के हवाले से बताया कि वह यूक्रेन के पुरुषों पर इस प्रकार के प्रतिबंध लगाने पर कोई विचार नहीं कर रहा है।

यूक्रेन Ukraine के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेन्को ने

यूक्रेन Ukraine के राष्ट्रपति पेट्रो पोरोशेन्को ने कहा कि 2014 में क्रीमिया पर कब्जे और देश के पूर्वी भाग में अलगावादियों को रूस द्वारा दिए जा रहे समर्थन को ध्यान में रखते हुए रूसी पुरुषों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाना जरूरी था।

बता दें कि इससे पहले यूक्रेन के खिलाफ रूस के बर्ताव की निंदा करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अर्जेंटीना में व्लादीमीर पुतिन के साथ होने वाली बैठक रद कर दी थी।

ईयू ने दी 500 मिलियन यूरो की मदद यूक्रेन की आर्थिक दशा को सुधारने के लिहाज से यूरोपीय यूनियन (ईयू) ने 500 मिलियन यूरो (लगभग चार हजार करोड़ रुपये) की मदद दी है।

साथ ही यूरोपीय यूनियन के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क ने अर्जेंटीना में एक प्रेस कांफ्रेंस में बताया, ’पूरा यूरोप यूक्रेन की एकता और अखंडता का समर्थन करता है।

यूरोपीय यूनियन 13-14 दिसंबर को

यही वजह है कि मुझे विश्वास है कि यूरोपीय यूनियन 13-14 दिसंबर को होने वाली बैठक में रूस पर लगाए प्रतिबंधों को आगे बढ़ा सकता है।’

यूक्रेन ने ईयू की मानवाधिकार अदालत में लगाई गुहार स्ट्राबोर्ग (फ्रांस)ः नौसेना जहाजों पर फायरिग और नाविकों के अपहरण के खिलाफ यूक्रेन ने मानवाधिकारों के यूरोपीय न्यायालय में शिकायत दर्ज कराई है।

यूक्रेन ने शुक्रवार को अपनी शिकायत में नाविकों की सलामती के लिए अदालत से हस्तक्षेप करने की गुहार लगाई है। इस पर कोर्ट ने कहा कि उसने रूसी सरकार से नाविकों की स्थिति के संबंध में सूचना देने को कहा है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *