Rafael deal :  फ्रांस्वा ओलांद के बयान से घिरी मोदी सरकार !

राफेल लड़ाकू (Rafael deal)विमान सौदे में हाल ही में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के कथित बयान से हड़कंप मच गया है। मोदी सरकार विपक्षियों के सवालों से घिर गर्इ है। दिल्ली सीएम केजरीवाल भी लगातार पीएम मोदी से सवाल पूछते जा रहे हैं।

Rafael deal : रिलायंस डिफेंस को साझीदार के

हाल ही में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने कहा है कि भारत सरकार ने 58,000 करोड़ रुपये के राफेल लड़ाकू विमान सौदे में दासौ एविएशन के लिए रिलायंस डिफेंस को साझीदार के रूप में प्रस्ताव किया था। एेसे में उसके पास कोर्इ विकल्प नहीं था। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के इस बयान के बयान भारतीय की राजनीति में भूचाल सा गया है। मोदी सरकार पर विपक्षियों ने एक सुर में निशाना साधना शुरू कर दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि फ्रांस्वा ओलांद को धन्यवाद।

हमारे सैनिकों के खून का अपमान

पीएम ने बंद दरवाजे के पीछे खुद राफेल सौदे पर बातचीत करते हुए उसमें बदलाव किए। उन्होंने निजी वजहों से अरबों रुपये का सौदा दिवालिया अनिल अंबानी के लिए के लिए किया। पीएम ने देश को धोखा देते हुए हमारे सैनिकों के खून का अपमान किया है। इसके बाद से दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल भी लगताार मोदी सरकार पर निशाना साधते जा रहे हैं। अरविंद केजरीवाल ने इस मामले में अब तक कर्इ ट्वीट किए हैं। एक ट्वीट में उन्होंने पीएम से तीन सवाल पूछे हैं।

केजरीवाल का ट्वीट

रिपोर्ट की जांच की जा रही है

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, ‘फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति ओलांद के बयान का उल्लेख करते हुए आई रिपोर्ट की जांच की जा रही है। ओलांद ने कहा है कि भारत सरकार ने ही इस सर्विस समूह का प्रस्ताव रखा था। हमारे पास कोई विकल्प नहीं था। यह पूछे जाने पर कि साझीदार के रूप में रिलायंस का चुनाव किसने और क्यों किया, ओलांद ने कहा, ‘इस बारे में कुछ नहीं कहना है। पीएम मोदी ने पेरिस में 10 अप्रैल 2015 को तत्कालीन राष्ट्रपति ओलांद के साथ बातीचत के बाद 36 राफेल जेट खरीदने की घोषणा की थी। इस सौदे पर अंतिम मुहर 23 सितंबर 2016 को लगी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *