Train-18 का ट्रायल हुआ फेल

नई दिल्ली। रेलवे की महत्वाकांक्षी इंटरसिटी ट्रेन परियोजना Train-18 ट्रेन-18 को ट्रायल के दौरान बड़ा झटका लगा है। रीजनरेशन टेस्ट के दौरान हाई वोल्टेज आ जाने के कारण ट्रेन सेट के इलेक्ट्रिकल व अन्य पार्ट्‌स खाक हो गए। चेन्नई स्थित इंटीग्रल कोच फैक्ट्री (आईसीएफ) के जिस विद्युत ट्रैक पर ट्रायल चल रहा था, वहां फैले हाई वोल्टेज के कारण साथ खड़े दो इंजन और एक ईएमयू तक क्षतिर्ग्रस्त हो गए।

Train-18 को चेन्नाई से

इस घटना में एसएमटी सर्किट को भी क्षति पहुंची। वहीं, इस हादसे पर पर्दा डालने के लिए इलेक्ट्रिकल इंजन लगाकर ट्रेन-18 Train-18 को चेन्नाई से दिल्ली के सफदरजंग स्टेशन पहुंचा दिया गया। इस ट्रेन के अंदर जाने की किसी को अनुमति नहीं दी गई क्योंकि क्षतिग्रस्त हिस्सों को अभी बदलना बाकी है।
रेल मंत्रालय का प्रयास है कि ट्रेन को हर हाल में इसी साल ही पटरी पर दौड़ाया जाए। जैसा कि इस परिजोयना के कोड यानी ट्रेन-18 का उद्देश्य भी था। बहरहाल, प्रोजेक्ट पूरी तरह लेट हो चुका है। ट्रेन के ट्रायल के दौरान चार और पांच नवंबर के बीच में चेन्नाई मंडल के अन्नानगर के पास हादसा हुआ था। इसे ट्रायल से जुड़े जिम्मेदार विभाग की गंभीर चूक बताया जा रहा है। ट्रायल फेल होने की घटना ने रेल अधिकारियों का चैन उड़ा दिया है।

सूत्रों का साफ कहना है कि इस घटना के पीछे मैकेनिकल व इलेक्ट्रिकल विभाग के बीच चल रही वर्चस्व की लड़ाई है। गौरतलब है कि नईदुनिया के सहयोगी प्रकाशन दैनिक जागरण ने प्रभुत्व के लिए रेलवे में खींचतान, आरोपों की आंच अश्विनी लोहानी तक पहुंची शीर्षक से समाचार प्रकाशित किया था। इनकी खींचतान का असर यात्रियों की सुविधाओं पर भी पड़ रहा है। अब यह नया घटनाक्रम सामने है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *