Para Asian Games : भारतीय एथलीटों का हुआ अपमान

नई दिल्ली। पैरा एशियन गेम्स Para Asian Games में भाग लेने जकार्ता पहुंचे भारतीय पैरा एथलीटों को खेल गांव के द्वार पर ही अपमान का कड़वा घूंट पीना पड़ा। भारतीय पैरालिंपिक समिति (पीसीआई) और खेल मंत्रालय के अधिकारियों की लेटलतीफी के कारण 71 एथलीट व सहयोगी स्टाफ को समय पर कमरे नहीं मिल पाए और घंटों उन्हें बाहर ही इंतजार करना पड़ा।

Para Asian Games छह अक्टूबर से

पैरा एशियन गेम्स Para Asian Games यहां छह अक्टूबर से 13 अक्टूबर तक होंगे जबकि यही पर 18 अगस्त से दो सितंबर तक एशियन गेम्स का आयोजन हुआ था। पीसीआई को एशियन पैरालिंपिक स्पो‌र्ट्स आयोजन समिति को प्रति एथलीट 650 डॉलर एंट्री फीस के तौर पर जमा करने थे। यह धन खेल मंत्रालय, पीसीआई को देता है।

सोमवार की सुबह भारतीय एथलीटों का पहला जत्था जकार्ता पहुंच गया लेकिन एंट्री फीस जमा नहीं होने के कारण आयोजकों ने पैरा एथलीटों को कमरे देने से इन्कार कर दिया। इससे दिव्यांग एथलीटों की परेशानी और बढ़ गई। इसके बाद दल प्रमुख गुरुशरण सिंह को चार अक्टूबर तक एंट्री फीस जमा करने का हलफनामा देने पर मजबूर होना पड़ा। तब जाकर घंटों इंतजार करने वाले एथलीटों को कमरे मिल सके।
गुरुशरण न कहा कि फिलहाल मामला सुलझ गया है। अगर चार अक्टूबर तक फीस जमा नहीं हुई तो एथलीटों को बाहर निकाला जा सकता है। इससे भारत की बदनामी हुई है। उन्होंने इसका ठीकरा खेल मंत्रालय के अधिकारियों पर फोड़ा। वहीं एक एथलीट ने कहा कि पीसीआई के कारण उन्हें घंटों परेशान होना पड़ा। जब एंट्री फीस नहीं जमा की गई थी तो हमें क्यों बुलाया गया। हम पदक जीतने के लिए जाते हैं न कि अपमान सहने के लिए।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *