राजनीतिक हित साधना ही भाजपा का मुख्य एजेण्डा : अखिलेश यादव

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि 2019 में लोकतंत्र के लिए निर्णायक चुनाव होने वाला है। भाजपा समाज में नफरत की खांई पैदा कर रही है और आरएसएस स्वतंत्रता आन्दोलन के मूल्यों को कमजोर करना चाहता है। इनके झूठे दावों का मुकाबला समाजवादी पार्टी ही करने के लिए तैयार है। हमें भाजपा की किसी भी साजिश में नहीं फंसना है। समाजवादियों का लक्ष्य भाजपा को सत्ता से हटाना है। भाजपा सरकार के अन्याय के विरूद्ध संविधान और समाजवाद की बड़ी लड़ाई है। जो देशहित में बहुत आवश्यक है। ये बात श्री यादव ने पार्टी मुख्यालय में जिलाध्यक्षों, महानगर अध्यक्षों, उपाध्यक्षों तथा महासचिवों की बैठक को सम्बोधित करने के दौरान कही।

आर्थिक संकट और अघोषित आपातकाल

अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार समाजवादी पार्टी के विरूद्ध षडयंत्र की राजनीति बनाकर नई-नई चालें चल रही है। समाजवादी पार्टी को बदनाम करने के लिए भाजपा ने अभियान छेड़ रखा है। जनता को गुमराह करने में भाजपा को महारत हासिल है। भाजपा की नीतियों से देश में आर्थिक संकट और अघोषित आपातकाल जैसी स्थितियां पैदा हो गई हैं। 80 प्रतिशत लोगों को उनके हक और सम्मान से वंचित किया जा रहा है। देश की सम्पदा कुछ पूंजी घरानों तक सिमट कर रह गयी है।

भाजपा की नीतियां जनविरोधी

श्री यादव ने कहा कि भाजपा सामाजिक न्याय के खिलाफ है। यदि जनगणना जाति आधारित हो तो हर वर्ग आबादी के अनुपात में अपना सम्मान और हक पा सकेगा। भाजपा समाज को विभाजित करने का काम करती है। भाजपा सबसे बड़ी जातिवादी पार्टी है। साम्प्रदायिक उन्माद पैदा करना और इसकी आड़ में राजनीतिक स्वार्थ प्राप्त करना भाजपा का मुख्य एजेण्डा है। श्री अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा की नीतियां जनविरोधी हैं। भाजपा ने देश की समस्याओं का समाधान करने के बजाय उनको उलझाने और गंभीर बनाने का काम किया है। सीमाएं असुरक्षित हैं। पड़ोसी देशों-से रिश्ते खराब हो रहे हैं। जीएसटी-नोटबंदी से आर्थिक-सामाजिक संकट खड़ा कर दिया है। देश में हर तरफ असंतोष और भाजपा के प्रति आक्रोश है।

पाकिस्तान से चीनी आयात

पार्टी अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा-आरएसएस पूरे समाज को अनिश्चित भविष्य में धकेल रही है। नौजवानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ हो रहा है। किसानों की हालत खराब है। साढ़े चार वर्ष में 50 हजार से ज्यादा किसान तंगहाली में फांसी लगाकर जान दे चुके हैं। गन्ना किसानों को धोखा दिया गया है। गन्ना किसानों की कर्ज अदायगी की जगह पाकिस्तान से चीनी आयात की जा रही है।

देश को तबाही के रास्ते पर

अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों के साथ कर्जमाफी के साथ धोखा हुआ है। जबकि पूंजी घरानों पर बिना अदायगी 4 लाख करोड़ से ज्यादा कर्जमाफी कर दी गयी। मतदाताओं के समक्ष गंभीर चुनौतियां है। भाजपा-आरएसएस मिलकर देश को तबाही के रास्ते पर ले जा रहे हैं। भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है। समाजवादी पार्टी ने जो विकास कार्य शुरू किए थे,उनमें अवरोध पैदा किया जा रहा है। जनता को गुमराह करने की चालों को विफल करके ही 2019 में भाजपा को करारी शिकस्त दी जा सकेगी। इस मौके पर राष्ट्रीय उपाध्यक्ष किरनमय नंदा, विधान सभा में नेता विरोधी दल रामगोविन्द चौधरी, राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल तथा विधान परिषद सदस्य एस.आर.एस. यादव, शैलेन्द्र यादव ललई एवं अरविन्द कुमार सिंह समेत दर्जनों पदाधिकारी व सदय उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *