Farmers बने राजनीतिक मोहरा

मध्य प्रदेश पिछले 70 वर्षों से Farmers सत्ता के लिए मोहरा बनाया जाता रहा है। लेकिन जो परिवर्तन पिछले 4 वर्षों में दिखाई पड़ा है। उससे पीड़ित किसान भी अनजान नहीं हैं। देश की राजनीति को मासूम किसानों को बहला फुसलाकर ही मोर्चा बंदी किया जाता रहा है। इसके लिए तत्कालीन मोदी सरकार के खिलाफ गलतफहमियों को फैलाकर राजनीति को बदलने के लिए विपक्षी धुरंधर मोर्चा बांधने में जुटे हैं। इसके लिए जो अब तक बैलगाड़ी को देखना पसंद नहीं करते थे वह नेता भी बैलगाड़ी में सवार हो गये।

Farmers, मध्यप्रदेश में 4 वर्षों में किसानों का हुआ विकास

मध्य प्रदेश में किसानों ने मोदी सरकार पर भरोसा जताया है। किसानों का कहना है कि 4 वर्षों में गरीबों और किसानों के लिए काफी काम हुआ है और विकास भी हुआ है। किसान 4 साल पहले की स्थितियों को देखने के बाद सोचने को मजबूर हो रहे हैं।

चुनाव के समय याद आते हैं किसान

किसानों की स्थितियों को सुधारने के लिए योजनाओं को पिछले 4 वर्षों में जिस तेजी के साथ अंजाम दिया गया और सुधार किया गया, वह अब तक रिकार्ड सुधार है। जिसने किसानों और गरीबों की स्थितियों को बदला है। इससे पहले किसानों की स्थितियों के बद​तर हालात के बारे ​में मध्यप्रदेश के किसानों ने खुद ​ऐसे विरोध को नकारा है।

शिवराज सिंह चौहान सरकार को घेरने की कोशिश

मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने शिवराज सिंह चौहान सरकार को घेरने के लिए किसानों को आगे करके किसान समृद्धि संकल्प रैली का आयोजन किया। जिसमें किसानों को एकत्रित करके कांग्रेस ने नेताओं ने बैलगाड़ी से संदेश देने की कोशिश की। राहुल गांधी भी मध्यप्रदेश में किसानों को लुभाने के लिए आने वाले नवंबर में होने वाले विधानसभा चुनाव को भुनाने की कोशिश में अभी से तैयारी में लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *