विधवाओं के जीवन में Holi का रंग

मथुरा। यूँ तो Holi सभी के लिए एक नई उमंग लेकर आती है ,पर इस बार ब्रज में कुछ ख़ास ही रही होली।

यहां करीब 2000 विधवा महिलाओं ने एकसाथ होली मनाई और खुशियों के रंग बिखेरे।

सैकड़ों साल पुरानी परंपरा टूटी Holi में

ब्रज अपनी अलग अलग तरह की होली के लिए हमेशा से जाना जाता रहा है ,पर इस बार ब्रज की Holi की बात ही कुछ अलग रही जब यहां पर विधवा महिलाओ के जीवन में भी होली का रंग चढ़ा।
जहाँ एक तरफ सैकड़ों साल पुरानी परंपरा की दीवार गिराकर एक  नई शुरुआत की गयी वही बांकेबिहारी के धाम वृन्दावन में विधवाओं  को भी जीवन को एक नई ख़ुशी मिली ।
उन्होंने होली के दौरान कान्हा पर फूल और गुलाल, अबीर बरसाकर उन्हें होली रस से सराबोर कर दिया।

श्रीधाम वृंदावन में..

वृन्दावन में हुए इस पहल में जहाँ एक तरफ नई ऊर्जा का संचार हुआ वही एक नया वातावरण तैयार हुआ।
सुलभ इंटरनेशनल संस्था के तरफ से बताया गया की , विधवाओं ने होली खेलने की अपनी इच्छा रखी तो संस्था के संस्थापक डॉ. बिंदेश्वरी पाठक ने सहमति जता दी। वहीं इस होली को देखने आए विदेशी भक्त भी पूरी मस्ती में नजर आए।

श्रीधाम वृंदावन में वर्तमान में करीब 2000 विधवा महिलाएं के जीवन में खुशी का रंग भरने के लिए सुलभ इंटरनेशनल ने ये पहल कर संगठन की ओर से गोपीनाथ मंदिर में फूल और गुलाल की होली का आयोजन किया गया।
होली की इस धूम में सारे भक्तों ने खूब होली खेली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *