NCC के दस दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का समापन

रायबरेली। दयानंद PG कॉलेज बछरावां में आयोजित 66 यूपी बटालियन NCC रायबरेली के 10 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के समापन सत्र में कर्नल डी एस चौहान ने समापन संबोधन में एनसीसी कैडेट से आह्वान किया कि जो कुछ भी उन्होंने कैंप में सीखा उन गतिविधियों को अपने तक सीमित ना रखें बल्कि देश के अन्य नागरिकों में भी इसका प्रचार प्रसार करें। सेना में अधिकारी बनने व अन्य सेवाओं में जाने के लिए उन्होंने शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने हेतु ड्रिल एवं योग करने की सलाह दी। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉक्टर राम नरेश को स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए उन्होंने सहयोग और स्नेह के प्रति आभार व्यक्त किया कमांडिंग ऑफिसर ने हवलदार श्रीपाल के ओ.टी.ए काम्पटी में मेडल प्राप्त करने की बधाई दी।

NCC कैडेट समाज के आदर्श

महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ रामनरेश ने कैडेटों को संबोधित करते हुए कहा “एनसीसी कैडेट समाज के आदर्श हैं। यह सभी समाज को नई दिशा प्रदान करते हैं और ये भविष्य के कर्णधार है। डिप्टी कैंप कमांडेंट लेफ्टिनेंट कर्नल उदयवीर सिंह ने सभी स्टाफ एवं ए एन ओ को सफल कैंप की बधाई दी। समापन समारोह का संचालन जेएनवी बल्ला के कैडेट सूर्य प्रताप सिंह ने किया। कैंप कमांडेंट ने कैडिटों को कैंप में अनेक क्षेत्रों में कार्य करने के लिए मेडल द्वारा सम्मानित किया गया जिसमें ड्रिल हेतु डीडीसी बछरावाँ के सौरभ शुक्ला, एन टी पी सी के धीरेंद्र प्रताप सिंह एवं बेस्ट कैडेट अवार्ड शिवम चौरसिया,अभिषेक यादव को दिया गया। राहुल सिद्धार्थ, सत्यम यादव, आशीष वर्मा, अमन, संदीप कुमार आदि को भी सम्मानित किया गया।

समापन सत्र में लेफ्टिनेंट डॉ राजेश वर्मा, ले.विष्णु चंद्र श्रीवास्तव, आदित्य मोहन, सोनी सिंह, धीरेन्द्र प्रताप सिंह ,सर्वेश यादव NCC सविल स्टाफ में गोपी, अजय, अनिल मिश्रा, सुनील, संजय उपस्थित रहे।

प्रातः काल में कैडेटों द्वारा प्रधानमंत्री के आह्वान पर संचालित होने वाले स्वच्छता अभियान की जागरूकता हेतु रैली का आयोजन किया गया। यह रैली बछरावां की विभिन्न गलियों से गुजरी एवं इस रैली के आयोजन में सूबेदार अनित बिष्ट, सूबेदार दिनेश, सूबेदार अनिल रतूड़ी, हवलदार श्रीपाल, हवलदार मनोहर आदि ने प्रतिभाग किया। सूबेदार मेजर ने आए हुए अतिथियों का धन्यवाद दिया और बताया कि 17 सितंबर को सभी कैडेट कैम्प से वापस चले जाएंगे और कैम्प समाप्त होगा।

रत्नेश मिश्रा
रत्नेश मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *