Demonetization के दूसरी वर्षगांठ पर विपक्ष ने मोदी सरकार को घेरा

लखनऊ। नोटबंदी Demonetization के दो साल होने पर समूचे विपक्ष ने मोदी सरकार को पूरी तौर से घेरने की कोशिश की है। कांग्रेस न कहा कि मोदी ने बातों के सिवा कुछ नहीं किया तो वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव बोले अब मोदी जवाब दें। बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी मोदी सरकार को घेरते हुए कहा कि केन्द्र की भाजपा सरकार ने जनता के साथ धोखा किया है। अब वक्त बदला लेने का आ गया है।

Demonetization को विफल बताते हुए

नोटबंदी Demonetization को विफल बताते हुए कांग्रेस के अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि देश में खुशहाली लाने और हर गरीब के खाते में 15 लाख दिलाने के सपने दिखाने वाली भाजपा सरकार ने जनता के साथ झूठे वादे किए थे और हकीकत में कुछ भी नहीं किया। उन्होंने कहा कि मोदी ने पूरे साढ़े चार साल लम्बी लम्बी बातें कीं। कभी मन की बात तो कभी फालतू की बात, पर इन्होंने काम नहीं किया। नोटबंदी के फायदे के दावे भी खोखले साबित हुए। जनता उनके बहकावे में अब आने वाली नहीं।

अखिलेश ने कहा मोदी जवाब दें

अखिलेश यादव ने ट्वीट करके मोदी सरकार से जवाब मांगा है कि वे जनता को जवाब दें कि नोटबंदी के 50 दिन क्या सात सौ दिन हो गए हैं। क्या फायदा मिला। मोदी ने तो पचास दिन का वक्त मांगा था। पर अब तो दो सूल पूरे हो गए। कहींकोई फायदा नहीं दिख रहा है। ऐसे में जनता मोदी का जवाब जानना चाहती है। अब उनकी चुप्पी कब टूटेगी। जनता को लम्बे समय तक बरगलाया नहीं जा सकता। जनता का भी समय आ गया है।

मायावती बोलीं मोदी ने किया जनता से धोखा

बसपा सुप्रीमो मायाव ती ने कहा कि देश की जनता में बहुचर्चित व इनके लिये अति-दुखःदायी नोटबन्दी के सम्बन्ध में जो-जो फ़ायदे केन्द्र की बीजेपी सरकार ने यहाँ की सवासौ करोड़ जनता को गिनाये थे उनमें से किसी भी घोषित उद्देश्यों की आज दो वर्ष बाद भी पूर्ति नहीं होने पर बीजेपी सरकार लोगों से माफी माँगे। उन्होंने कहा कि तथ्य व आँकड़ें गवाह हैं कि काफी अपरिपक्व तरीके से व काफी आपाधापी में देश की जनता पर ज़र्बदस्ती थोपे गये नोटबन्दी की आर्थिक इमरजेन्सी से वह कुछ भी प्राप्त नहीं हुआ है जिसका दावा सरकार ने इसको लागू करते समय किया था। आर्थात नोटबन्दी देश व यहाँ की जनता के लिये बीजेपी के अन्य वायदों की तरह ही पूरी तरह से एक और धोखा ही साबित हुआ है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *