Raja Bhaiya : राजनीति की रजत जयंती पर करेंगे नई पार्टी बनाने की घोषणा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजनीति में विगत कई वर्षों से एक बड़ा चेहरे बन चुके कुंडा के निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ Raja Bhaiya राजा भैया अपने राजनीतिक सफर में 25 वर्ष पूरे करने के साथ ही अब अपनी खुद की पार्टी बनाने का ऐलान जल्द ही कर सकते हैं। जिसकी पुष्टि शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए की गयी। प्रतापगढ़ के कुंडा से 1993 में पहली बार निर्दलीय विधायक चुने गए दबंग छवि के राजा भैया ने प्रदेश की सरकार में खेलकूद एवं युवा कल्याण मंत्रालय, कारगर मंत्री, खाद्य मंत्री जैसे कई महत्वपूर्ण पदों पर कार्य करने के बावजूद अभी तक किसी भी राजनैतिक पार्टी का दामन नहीं थामा।

Raja Bhaiya : 30 नवंबर को कर सकते हैं पार्टी की घोषणा

लगातार 7 बार विधायक रहे रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया पहली बार 26 वर्ष की उम्र में प्रतापगढ़ के कुंडा से निर्दलीय विधायक बने। राजा भैया 30 नवंबर को राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे करने जा रहे हैं तथा इसदिन को ध्यान में रखकर लखनऊ में एक बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

राजनैतिक गलियारों में ऐसा कयास लगाया जा रहा है की राजा भैया आगामी लोकसभा चुनाव 2019 में अपने उम्मीदवार खड़े कर सकते हैं। ऐसे में उनके साथ दर्जनों राजपूत नेता व पिछड़ा वर्ग तथा दलित नेता भी उनके साथ आ सकते हैं। इसमें मौजूदा विधायक से लेकर पूर्व सांसद तक शामिल हैं जिसमें प्रतापगढ़ के बाबागंज से निर्दलीय विधायक विनोद सरोज, कौशांबी से समाजवादी पार्टी से सांसद रहे शैलेंद्र कुमार आदि हैं।

इसके अलावा फैजाबाद के गोसाईगंज से पूर्व विधायक अभय सिंह, बलिया के बैरिया से बीजेपी के विधायक सुरेंद्र सिंह भी राजा भैया के बेहद करीबी माने जाते हैं।

रघुराज प्रताप सिंह ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की थी। इसके बाद से वह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल करते आ रहे हैं। उन्होंने सियासत में पहला कदम 26 वर्ष की उम्र में रखा। इस तरह से राजा भैया 30 नवंबर को राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे करने जा रहे हैं। जिसको लेकर इसी 30 नवंबर को लखनऊ में रजत जयंती समारोह का एक बड़ा राजनीतिक कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

वरुण सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *