Ram temple निर्माण के लिए सीएम से मिले संत

अयोध्या में Ram temple निर्माण के लिए साधु-संतों ने गुरुवार को राजधानी में सीएम योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। इस दौरान दिगंबर अखाड़ा के महंत सुरेश दास मौजूद रहे। अयोध्या से आये संतों ने इस दौरान सीएम योगी आ​दित्यनाथ से अयोध्या के विकास और राम मंदिर निर्माण को लेकर बात चीत की। इसके साथ घाघरा का नाम बदलकर सरयू करने जैसी मांग रखी गई है। जिस पर सीएम योगी ने उन्हें आश्वासन दिया है। सीएम योगी और संतों के बीच हुई बात चीत के बाद संत काफी खुश नजर आये। इसके साथ संतों ने बताया कि राम मंदिर का निर्माण जल्द शुरू होगा। इसका मुख्यमंत्री की ओर से आश्वासन दिया गया है। इसके साथ अयोध्या के विकास के लिए भी जल्द ही कदम उठाये जायेंगे।

Ram temple, धर्म संसद में भी उठेगा राम मंदिर निर्माण का मुद्दा

उन्होंने कहा कि 25 जून को होने वाले धर्म संसद में भी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण सबसे बड़ा मुद्दा होगा। संतों ने कहा अब मंदिर निर्माण का वक्त आ गया है। उन्होंने कहा कि अब बलिदान देने का नहीं बल्कि लेने का समय आ गया है। उनका साफ इशारा था कि केंद्र और प्रदेश में बीजेपी सरकार है। इससे अच्छा मौका नहीं हो सकता है। संतों ने कहा मुख्यमंत्री खुद राम मंदिर निर्माण के लिए चिंतित हैं। उन्होंने कहा कि वैसे तो सुप्रीम कोर्ट में फैसला उन्हीं के पक्ष में आएगा। लेकिन फिर भी अब मंदिर निर्माण का वक्त आ चुका है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री 25 जून को इलाहाबाद में होने वाले संत सम्मलेन में शामिल होंगे। संत सम्मलेन में भी राम मंदिर निर्माण ही मुद्दा होगा।

न्यास और अखाड़ा समितियों के संतों ने लगाई उम्मीदें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संतों से मुलाकात करने के साथ उन्हें भरोसा दिलाया है। वहीं साधुओं ने भी मुख्यमंत्री से उम्मीदें जताई हैं कि वे अब केंद्र सरकार के साथ मुद्दे को आगे बढ़ाते हुए मंदिर निर्माण और अयोध्या के विकास पर विशेष बल देंगे। इस मुलाकात में रामजन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमलनयन दास, बड़ाभक्त महल के महंत अवधेश दास, राम बल्लभा कुंज के अधिकारी राजकुमार दास, महंत डॉ. भरत दास समेत अन्य शामिल रहे। संतों ने केंद्र सरकार से भी मंदिर निर्माण के लिए उम्मीदें लगाई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *