Sanjay Singh-aap

Sanjay Singh : प्रधानमंत्री के पास भगोड़ों के लिए पैसा है लेकिन..

लखनऊ। पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर देश भर में चल रहे आंदोलनों को समर्थन देते हुए आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद Sanjay Singh संजय सिंह ने कहा कि पार्टी दिल्ली राज्य के सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन नीति को बहाल करेगी। दिल्ली विधानसभा में प्रस्ताव पास कराकर केंद्र सरकार के पास भेजा जायेगा इसके साथ ही गैर भाजपा शासित राज्यों के अपने समकक्षों को भी इसे लागू करने के लिए पत्र भेजा जायेगा।

Sanjay Singh : नई पेंशन नीति कर्मचारियों के लिए धोखा

यूपी प्रभारी एवं राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने बयान जारी कर कहा कि यदि कोई 40 दिन के लिए भी विधायक, सांसद बन जाता है तो उसको जीवन भर पेंशन दी जाती है तो 40 साल तक सरकारी कर्मचारी रहे लोगों को पेंशन क्यों नहीं मिल सकती है ?

उन्होंने कहा कि नई पेंशन नीति में कर्मचारियों के लिए धोखे के सिवा कुछ भी नहीं है। भाजपा उद्योगपतियों की पार्टी है इसलिए नइ पेंशन नीति से सरकार सिर्फ शेयर बाजार को फायदा पंहुचा रही है। नीरव मोदी, ललित मोदी, विजय माल्या, मेहुल चौकसी जैसे भगोड़ों के लिए प्रधानमंत्री मोदी के पास पैसा है लेकिन सरकारी कर्मचारियों के लिए पैसा नहीं है। उन्होंने कहा कि शिक्षक, डाक्टर, इंजीनियर सहित सभी विभागों के सरकारी कर्मचारियों को चिंता करने की जरुरत नहीं है, आम आदमी पार्टी उनके अधिकारों को दिलाने के लिए हमेशा संघर्ष करती रहेगी।

प्रदेश प्रवक्ता महेंद्र प्रताप सिंह ने कहा कि यूपी में काफी समय से कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर आन्दोलन कर रहे हैं यदि मुख्यमंत्री योगी चाहे तो यूपी के लाखों सरकारी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन का लाभ मिल सकता है। यूपी में भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार है, विधानसभा में प्रस्ताव पास कराकर इसे यूपी में लागू किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी पुरानी पेंशन लागू नहीं करेंगे क्योकि उनका रिमोट कंट्रोल देश पर हुकुमत करने वाले दो गुजरातियों के पास है।

About Samar Saleel

Check Also

BJP ने प्रदेश का किया बेड़ा गर्क : अखिलेश

BJP ने प्रदेश का किया बेड़ा गर्क : अखिलेश

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *