Surendranath : भाजपा शासन में गरीब उपेक्षित

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश प्रवक्ता Surendranath सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने कहा कि प्रदेश सरकार के संरक्षण में विभिन्न जनपदों में नगर निगम, नगर पालिका एवं नगर पालिका परिषद के द्वारा विकास की आड़ में गरीबों को उजाड़ने का कार्य निरंतर चल रहा है जिसमें गरीब ठेले और दुकानदार चपेट में आ रहे हैं और उन्हें अपने परिवार का भरण पोषण करना मुश्किल हो गया है। प्रदेश सरकार यह भूल गयी है कि इन्हीं गरीबों के वोट पाकर उसे सत्ता मिली है।

Surendranath : बजट का पैसा कमीशनखोरी और बंदरबाट में

श्री त्रिवेदी ने कहा कि नगर विकास मंत्री को अपने अधीनस्थ विभागों को यह आदेश करना चाहिए कि फुटपाथ के गरीब दुकानदारों, ठेले वालों को सर्वप्रथम वेंन्डिग जोन में स्थान आवंटित करे ताकि उन्हें अपना परिवार चलाने में किसी भी प्रकार की परेशानी न रहे। उसके पश्चात् विकास कार्य सम्पन्न किये जाए। यद्यपि नगर विकास विभाग का सबसे पहला कार्य नागरिक सुविधाओं की ओर ध्यान देना है परन्तु गलियों और नालियों की मरम्मत के साथ साथ नालों की गंदगी पूर्ण रूपेण साफ होने की ओर अधिकारियों का कोई ध्यान नहीं होता। केवल थोड़ा बहुत कार्य कराकर सम्पूर्ण बजट का पैसा कमीशनखोरी और बंदरबाट में समाप्त हो जाता है और उनके मंत्री महोदय अपनी पीठ अपने आप थपथपाते रहते हैं।

ये भी पढ़ें – Surendranath : मुस्लिम समुदाय को डराने का कार्य कर रही बीजेपी

अली और बजरंग बली से फुरसत नही

रालोद प्रदेष प्रवक्ता ने कहा कि उ0प्र0 की आबादी लगभग 22 करोड़ है और यहां की सरकारों ने गरीबों की उपेक्षा की है यही कारण है कि प्रदेश की हजारों फैक्ट्रियां और मिले बंद पड़ी है जिनमें लाखों मजदूरों की रोजी रोटी चलती थी। प्रदेश की भाजपा सरकार भी इन्वेस्टर समिटि के नाम पर करोडों रूपया बर्बाद कर चुकी है लेकिन एक भी पुरानी फैक्ट्री या मिल का पुर्नजीवन नहीं कर सकी जिसमें सीधे तौर पर प्रदेश के मजदूरों को रोजी रोटी मिल सकती थी। ऐसा लगता है कि प्रदेश के मुख्यमंत्री को हिन्दू मुस्लिम, मन्दिर- मस्जिद के साथ साथ अली और बजरंग बली से फुरसत नही है। यही कारण है कि भाजपा शासन में गरीब उपेक्षित है।

ये भी पढ़ें – सिर्फ नाम बदलने से नहीं होगा विकास : Surendranath

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *