Raja Bhaiya को बीजेपी ने दिया सबसे बड़ा झटका

लखनऊ। बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 से पहले क्षत्रिय बाहुबली राजा भैया Raja Bhaiya को सबसे बड़ा झटका दे दिया है। बीजेपी ने केन्द्र की सत्ता पर फिर से कब्जा करने के लिए सारे विकल्पों को खुला रखने का संकेत दे दिया है। पांच राज्यों में चुनाव हराने के बाद बैकफुट पर चल रही भारतीय जनता पार्टी के मास्टर स्ट्रोक से राहुल गांधी, अखिलेश यादव, मायावती के साथ राजा भैया को भी नुकसान हो सकता है।
बीजेपी ने गरीब सवर्णों को 10प्रतिशत आरक्षण देने के निर्णय को कैबिनेट से मंजूरी दिला कर बड़ा पासा फेंका है। एससी/एसटी एक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद बीजेपी ने अध्यादेश लाया था जिससे सवर्ण वोटर सबसे अधिक नाराज हुए थे।

Mayawati ने खनन घोटाले में अखिलेश को किया फोन

Raja Bhaiya ने अपनी नयी पार्टी

इसी बीच यूपी की सियासत में सनसनी फैलाते हुए कुंडा के क्षत्रिय बाहुबली राजा भैया Raja Bhaiya ने अपनी नयी पार्टी जनसत्ता (लोकतांत्रिक) बना कर प्रत्याशी उतराने का ऐलान किया। राज भैया ने एससी/एसटी एक्ट पर लाये अध्यादेश का विरोध करने का संकेत देकर सवर्ण वोटरों को खुश करने का प्रयास किया था। माना जा रहा था कि बीजेपी से नाराज सवर्ण वोटर के पास राजा भैया सबसे अच्छा विकल्प बन कर उभर सकते हैं।

राजनीति जगत में चर्चा शुरू हो गयी थी कि नाराज सवर्ण वोटरों को कांग्रेस के पाले में जाने से रोकने के लिए बीजेपी ने राजा भैया की पर्दे के पीछे से मदद करने की तैयारी की है लेकिन सवर्ण आरक्षण कार्ड खेल कर बीजेपी ने सारे समीकरणों को ध्वस्त कर दिया है। बीजेपी को इस निर्णय से सवर्ण मतदाता खुश होकर पार्टी से जुड़ जाते हैं तो सबसे अधिक झटका राजा भैया को लगेगा। वजह साफ है राजा भैया को अपने प्रत्याशी जीताने के लिए सवर्ण वोटरों की सबसे अधिक जरूरत पडऩे वाली है।

अध्यादेश लाकर दलित वोटरों को

बीजेपी ने पहले एससी/एसटी एक्ट पर अध्यादेश लाकर दलित वोटरों को अपने पाले में लाने का प्रयास किया है। यादव छोड़ कर अन्य पिछड़ी जाति पर अभी बीजेपी की पकड़ बनी हुई है। नाराज सवर्ण वोटरों के लिए पार्टी ने आरक्षण कार्ड खेल दिया है। माना जा रहा है कि बीजेपी ने वर्ष 2014 का परिणाम दोहराने के लिए खास तैयारी की है जिसके तहत ही सवर्ण आरक्षण कार्ड खेला गया है आने वाले समय में बीजेपी इस तरह का कुछ और धमाका कर सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *