Gitanjali Sharma : न्याय के लिये दर दर भटक रही है प्रधानाध्यापिका

ऊंचाहार/रायबरेली। डीएम संजय कुमार खत्री के सारे निर्देशों का पालन करने वाली इंचार्ज प्रधानाध्यापिका को न्याय के लिए दर दर भटकना पड़ रहा है। शिक्षा के मंदिर मे बच्चों के शिक्षा के प्रति निर्भर एक सीनियर इंचार्ज प्रधानाध्यापिका Gitanjali Sharma को उसके ही विभाग से न्याय न मिल पाने का मामला प्रकाश मे आया है जिसको लेकर प्रधानाध्यापिका अपने सच की लडाई लड़ने के लिए निरंतर विभागीय लिखा-पढ़ी करने मे जुटी हुई है।

Gitanjali Sharma : प्रधानाध्यापिका के साथ मारपीट..

मामला ऊंचाहार नगर के सलोन मार्ग के खण्ड शिक्षा कार्यालय का है जिसके प्रागंड में ही पूर्वमाध्यमिक विद्यालय नगर पंचायत ऊंचाहार संचालित है। जहां पर सीनियर इंचार्ज प्रधानाध्यापिका गीतांजलि शर्मा तैनात है जो विद्यालय मे पंजीकृत बच्चों की शिक्षा के प्रति सदैव चिंतित रहने के साथ साथ उनके देखभाल तक करती हैं।

इंचार्ज प्रधानाध्यापिका ने बीते 28 सितंबर को विद्यालय मे ही तैनात सहायक अध्यापक एवं अनुदेशक के द्वारा विद्यालय मे मनमाने ढंग से कार्य एवं बच्चो के शिक्षा के प्रति लापरवाही बरत मोबाइल व बातें करने मे व्यस्त होने पर उसकी शिकायत बीईओ आफिस व बीएसए को प्रतिलिपि भेजकर किया गया। जिसके बाद 5 अक्टूबर को इंचार्ज प्रधानाध्यापिका द्वारा सहायक अध्यापक व अनुदेशक को बच्चों को पढ़ाने की जगह व्यस्त होने पर मना करने पर दोनो के द्वारा इंचार्ज प्रधानाध्यापिका गीतांजलि शर्मा के साथ मारपीट व गाली गलौज एवं जान से मारने तक की धमकी दिया गया। जिसकी शिकायत बीईओ, बीएसए व कोतवाली ऊंचाहार में दिया गया।

  • दिनांक 8 अक्टूबर को सहायक अध्यापक व अनुदेशक बिन सूचना के विद्यालय मे अनुपस्थित रहीं जिसकी भी लिखित शिकायत बीईओ, बीएसए को किया गया।
  • 10 नवंबर को पुनः सहायक अध्यापिका व अनुदेशक बिन सूचना दिये अनुपस्थित रहीं।जिसकी भी लिखित सूचना बीईओ व बीएसए को इंचार्ज प्रधानाध्यापिका के द्वारा दी गई।
प्रधानाध्यापिका मानसिक तनाव व आहत

इस मामले मे अभी तक कोई न्याय न मिलने से आहत इंचार्ज प्रधानाध्यापिका के द्वारा 19 नवंबर को बीईओ व बीएसए को लिखित प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया है 15 नवंबर को अनुदेशक फिर बिन बताए अनुपस्थित थी जिसका खुलासा तब हुआ जब इंचार्ज प्रधानाध्यापिका के द्वारा अनुदेशक का छुट्टी का प्रार्थना पत्र विद्यालय मे न होने से अनुदेशक के 15 नवंबर के छुट्टी के बावत उसकी सूचना मांगी तो न तो विद्यालय मे दिया गया न ही बीईओ के द्वारा प्रमाणित सूचना उपलब्ध करवाया गया, जिसकी भी शिकायत बीईओ को इंचार्ज प्रधानाध्यापिका के द्वारा 20 नवम्बर को दिया गया जिसके बाद बीईओ द्वारा गलत बयान देने को लेकर इंचार्ज प्रधानाध्यापिका मानसिक तनाव व आहत है।

  • गीतांजलि शर्मा ने अपने न्याय के लिये डीएम व पुलिस अधीक्षिका को शिकायती पत्र भेज न्याय की गुहार लगाई है। देखना ये है कि कब और कौन अधिकारी पीडिता के न्याय में सहयोग करेगा।

उधर एसडीएम प्रदीप कुमार वर्मा ने बताया कि पीडिता हमसे नही मिली है। यदि हमसे मिलती है तो उसको न्याय अवश्य मिलेगा और दोषियों के खिलाफ वैधानिक कार्यवाही किया जाएगा।

– रत्नेश मिश्रा 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *