Nek Chand : कबाड़ से बने राॅक गार्डन पर ठहर जाएगी नजर

चंडीगढ़। मशहूर रॉक गार्डन के निर्माता चंडीगढ़ के Nek Chand नेक चंद ने 12 जून 2015 में इस दुनिया को अलविदा कह दिया था। एेसे में आइए आज उनकी पुण्यतिथि पर जानते हैं कुछ बातें…

Nek Chand ने कबाड़ एकत्र कर बनार्इ खूबसूरत कलाकृतियां

नेक चंद Nek Chand ने टूटी हुए चूड़ियों, कटलरी, चिनावेयर, स्विचिंग, प्लग और ट्यूब-रोशनी, पत्थर, टाइल, घरेलू जंक, पत्थरों जैसी चीजों से खूबसूरत कलाकृतियां बनार्इ थीं।

  • 18 साल की कड़ी मेहनत ने इन्होंने चंडीगढ़ को अनमोल धरोहर दी।
1947 में विभाजन के बाद चंडीगढ़ पहुंचे
  • चंडीगढ़ के खूबसूरत रॉक गार्डन का निर्माण करने वाले मशहूर आर्टिस्ट नेक चंद का जन्म 15 दिसंबर 1924 में बरियाला कलां में हुआ था। यह स्थान आज पाकिस्तान में है।
35-एकड़ परिसर में रॉक गार्डन
  • चंडीगढ़ में स्थित नेक चंद सैनी के नाम से खूबसूरत रॉक गार्डन 35-एकड़ परिसर में चंडीगढ़ के सेक्टर 1 में स्थित है।
  • खास बात तो यह है कि यहां झरने, खुली हवा थियेटर और पूल भी हैं।
पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित
  • नेक चंद को विभिन्न देशों में मानद नागरिकता की पेशकश की गई थी।
  • भारतीय कला में उनके योगदान को देखते हुए छोटे-बड़े अनेक पुरस्कार मिले।
  • खास बात तो यह है कि नेक चंद को 1984 में पद्म श्री पुरस्कार भी मिला था।
  • यह 1947 में विभाजन के बाद चंडीगढ़ पहुंचे थे।

चंडीगढ़ में रोड इंस्पेक्टर के तौर पर…

  • एक रिपोर्ट के मुताबिक नेक चंद ने 1950 और 1960 के दशक में चंडीगढ़ में रोड इंस्पेक्टर के तौर पर पब्लिक वर्कस डिपार्टमेंट में अपनी सेवाएं दी थीं।
  • चंडीगढ़ को रि डिजाइन करने श्रेय नेक चंद को ही दिया जाता है।
बेकार सामान इकट्टा करके शुरू किया
  • नेक चंद ने 1958 में टूटा फूटा सामान इकट्टा करना शुरू कर दिया था।
  • कहा जाता है कि जिस सामान को लोग बेकार समझकर फेंकते थे, उसे इन्होंने सहेज कर रखा।
  • इस गार्डन के निर्माण में नेक चंद ने रात में भी काम किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *