Breaking News

आजादी के दो दिन पहले कुछ इस तरह का मंजर था भारत में, जब मुस्लिम स्त्रियों ने…

दो दिन बाद देश आजादी (Independence day) की 73वीं सालगिरह मना रहा होगा 15 August 1947 को देश आजाद हुआ था हालांकि इसके दो दिन पहले भी ऐसी घटनाएं हुई थीं, जो भारतीय इतिहास में टर्निंग पॉइंट के तौर पर दर्ज हैं

200 सालों की गुलामी के बाद 13 अगस्त 1947 को ऐसा क्या हुआ था? आजादी मिलने के दो दिन पहले देश में कैसी घटनाएं हुईं थीं? 13 अगस्त 1947 को देश का माहौल कैसा था, कि हम इसे इतिहास का टर्निंग पॉइंट बता रहे हैं

13 अगस्त 1947 को देश का बंटवारा हो चुका था सारे देश में अफरातफरी का माहौल था एक तरफ आजादी मिलने की खुशी थी तो दूसरी तरफ बंटवारे का दर्द हिंदू, मुस्लिम सिख समुदाय के लोग अपने सुरक्षित भविष्य की तलाश में बॉर्डर क्रॉस कर रहे थे लेकिन अपनी धरती, अपनी जमीन छोड़ने का दुख उनका कलेजा छलनी कर रहा था लाखों लोग हिंदुस्तान से पाक आ-जा रहे थे

जब मुस्लिम स्त्रियों ने नयी दिल्ली से पाक जाने के लिए ट्रेन पकड़ी

13 अगस्त को ही हिंदुस्तान मे रह रहीं मुस्लिम स्त्रियों ने नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन से पाक जाने वाली ट्रेन पकड़ी मुस्लिम स्त्रियों की भीड़ ट्रेन में अपने जिंदगी को नए सिरे से संवारने का सपना लेकर पाक की ओर रवाना हो गई नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर दिल को चीर कर रख देने वाला नजारा था बिछड़ने  मिलने का मिला जुला गम  खुशी के बीच एक अनिश्चितता का माहौल पसरा था

लाखों लोगों ने झेला विस्थापन का दर्द

पाक से हिंदुओं को हिंदुस्तान भेजा जा रहा था बंटवारे के बीच दंगे भड़क उठे थे लोग एकदूसरे को मारने काटने में लगे थे पाक से जो ट्रेनें हिंदुस्तान आ रही थीं, उनकी बोगियों से लाशें निकल रही थीं चारों ओर खून खराबा पसरा था भारत में भी मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा था

Loading...
दुनिया के सबसे बड़े विस्थापन का दर्द

दो मुल्क के बंटवारे के महज 50 से 60 दिन के भीतर लाखों लोग का विस्थापन हुआ था इतना बड़ा विस्थापन संसार में कहीं नहीं हुआ बंटवारे की घोषणा होते ही बरसों से अपनी जमीन से जुड़े लोग अपने घर-मकान, जायदाद, दुकानें संपत्ति छोड़कर भारत से पाक  पाक से भारत आने जाने लगे

विस्थापन के दर्द को शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता एक आंकड़े के मुताबिक करीब 1.45 करोड़ लोग विस्थापित हुए थे 1951 में जब जनगणना हुई तो पता चला कि बंटवारे के बाद करीब 72 लाख 26 हजार मुसलमान भारत छोड़कर पाक चले गए  करीब 72 लाख 49 हजार हिंदू  सिख पाक छोड़कर भारत चले आए

भारत में रियासतों के विलय को लेकर उलझी थी बात

13 अगस्त 1947 को आजादी के महज दो दिन पहले भी भारत ने ये निर्णय लिया कि वो सोविय यूनियन के साथ दोस्ती  करीबी का रिश्ता रखेगा इस संबंध ने आगे चलकर भारत को भरपूर मजबूती दी

करीब 1.45 करोड़ लोग विस्थापित हुए थे

उस वक्त तक त्रिपुरा हिंदुस्तान का भाग नहीं था त्रिपुरा में लंबे वक्त से राजशाही थी 13 अगस्त 1947 को ही त्रिपुरा की महारानी कंचनप्रवा देवी ने त्रिपुरा के हिंदुस्तान में विलय का निर्णयलिया था इसी दिन महारानी ने विलय के कागजात पर अपने दस्तखत किए थे इसके साथ ही त्रिपुरा का हिंदुस्तान में विलय हुआ था

हिंदुस्तान में रियासतों का विलय हो रहा था लेकिन भोपाल के नवाब अपनी बात पर अड़े थे 13 अगस्त 1947 को भोपाल के नवाब हमिदुल्ला खान ने भोपाल के विलय से मना करते हुए भोपाल के आजाद रखने की मांग रखी थी उधर हैदराबाद के निजाम भी इसी तरह की प्रयास में लगे थे निजाम ने ट्रांसफर ऑफ क्षमता के मसले पर घोषणा की कि हैदराबाद एक स्वतंत्र प्रदेश के तौर पर रहेगा

इस बीच मुस्लिम समुदाय के लिए ये खुशी का दिन था 13 अगस्त के एक दिन बाद यानी 14 अगस्त पाक की आजादी का दिन मुकर्रर हुआ था

13 अगस्त 1947 को ही फेडरल न्यायालय के चीफ जस्टिस सर हरिलाल जेकिसुनदास कनिया हिंदुस्तान के चीफ जस्टिस बनाए गए थे

Loading...

About News Room lko

Check Also

“क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया” मुहीम में जुटे लेमन मैन आनंद मिश्रा

समर सलिल की टीम आज आनंद मिश्रा कि नींबू की बाग देखने उत्तर प्रदेश के रायबरेली ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *