फर्जी madarsa पर यूपी में खर्च हो रहे 100 करोड़

लखनऊ। यूपी की सत्तारूढ़ योगी सरकार के madrasa के ऑनलाइन पंजीयन के बाद कई फर्जी मदरसों का खुलासा हुआ है। जिसमें यूपी सरकार की ओर से 100 करोड़ रूपये प्रतिवर्ष अतिरिक्त खर्च किया जा रहा था। यूपी सरकार के वेब पोर्टल पर पंजीयन अनिवार्य किए जाने के बाद फर्जी पाए गए दो हजार से ज्यादा मान्यता प्राप्त मदरसों का खुलाशा हुआ है।

आॅनलाइन पंजीयन से madrasa की कार्यप्रणाली में आयेगी पारदर्शिता

प्रदेश के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने कहा कि सरकार ने मदरसों की कार्यप्रणाली में पारदर्शिता लाने के लिए जो कदम उठाया वह सराहनीय है। सरकार ने पिछले साल सभी मदरसों के प्रबन्धन से उत्तर प्रदेश मदरसा बोर्ड के वेब पोर्टल पर अपने बारे में पूरी जानकारी अपलोड करने को कहा था।

  • मगर ऐसा करने के लिए अंतिम तारीख कई बार बढ़ाई गई थी।
  • इसके बावजूद मदरसों के संचालित 140 मिनी आईटीआई में से 20 ने अपनी जानकारी नहीं दी है।
  • करीब 2300 मदरसों ने भी पोर्टल पर अपना पंजीयन दर्ज नहीं कराया है।
  • इन सभी पर अब तक हर साल करीब 100 करोड़ रुपए खर्च किए जाते थे।

2300 फर्जी मदरसों पर सरकार ने पहले ही लगाई थी मुहर

यूपी सरकार ने मदरसा बोर्ड के वेब पोर्टल पर अपना ब्योरा नहीं देने वाले करीब 2300 मदरसों को पहले ही फर्जी मान चुकी है। मंत्री चैधरी लक्ष्मी नारायण के मुताबिक प्रदेश में 19 हजार 108 मदरसे राज्य मदरसा बोर्ड से मान्यता प्राप्त हैं।

  • उनमें से 16 हजार 808 मदरसों ने पोर्टल पर अपना ब्यौरा फीड किया है।
  • वहीं, करीब 2300 मदरसों ने अपना विवरण नहीं दिया है।
  • जिनको फर्जी माना जा रहा है।

About Samar Saleel

Check Also

दलित छात्र-छात्राओं का हो रहा है उत्पीड़न : चंद्रशेखर

लखनऊ। शिक्षण संस्थाओं में बहुजन छात्र-छात्राओं को कथित जातिवादी मानसिकता और उत्पीड़न से बचाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *