सीतापुर की daughters बोलेंगी “हमसे न लो पंगा”

लखनऊ। ‘हमसे न लो पंगा’ का अगला क्वार्टर फाइनल मैच सीतापुर शहर में होगा। आगामी 16 अप्रैल को श्रीकृष्णा कालेज, लहरपुर रोड में कबड्डी प्रतियोगिता होगी। सीतापुर जिले के इस मैच की जिम्मेदारी ‘अन्नपूर्णा सेवा संस्थान’ उठा रहा है। ‘अंश वेलफेयर फाउंडेशन’ यूपी में महिला कबड्डी लीग के माध्यम से निजी और सरकारी स्कूलों की बच्चियों में आत्मविश्वास भर रहा है।

पहली बार प्रदेश में निजी स्तर पर daughters खेलेंगी कबड्डी

महिला कबड्डी लीग के संयोजक नागेन्द्र बहादुर सिंह चौहान एवं अंश वेलफेयर फाउंडेशन की अध्यक्ष श्रद्धा सक्सेना ने बताया कि प्रदेश में पहली बार निजी स्तर पर डब्ल्यूकेएल (महिला कबड्डी लीग) हो रही है। उनकी स्वयंसेवी संस्था अन्य संस्थाओं के साथ मिलकर यह अनोखी कबड्डी प्रतियोगिता (डब्ल्यू. के. एल.) करवा रही है। ‘हमसे न लो पंगा’ नाम की इस खेल प्रतियोगिता के माध्यम से बालिकाओं विशेषकर ग्रामीण इलाके की बेटियों को मंच दिया जा रहा है। आगामी 28, 29 व 30 अप्रैल को लखनऊ के बाबू केडी सिंह स्टेडियम में सेमी फाइनल/फाइनल मैच होंगे।

केडी सिंह बाबू स्टेडियम में होंगे फाइनल और सेमीफाइनल मैच

इस कबड्डी लीग की गणतंत्र दिवस के मौके पर बख़्शी का तालाब ब्लाक से विधिवत शुरुआत हुई थी। अभी 26 मार्च को फैजाबाद में क्वार्टर फाइनल हुआ। प्रदेश के विभिन्न जिलों में बालिकाएं कबड्डी खेल रही हैं। जिलों में क्वार्टर फाइनल जीतने वाली सीनियर और जूनियर टीमें लखनऊ आएंगी। राजधानी के बाबू केडी सिंह स्टेडियम में सेमी फाइनल और फाइनल मैच होंगे।

बेटियां दिखाएंगी दम

यूपी लेबल की इस कबड्डी लीग में लड़कियों का भारी उत्साह देखने को मिल रहा है। ग्रामीण इलाके की धाकड़ बेटियाँ कबड्डी में पूरा दमखम दिखा रही हैं। इस कबड्डी प्रतियोगिता से बालिकाओं में गजब का आत्मविश्वास जाग रहा है। उनको उत्साहित करने के लिए फाइनल मैच में कई मंत्रियों, अधिकारियों, विशिष्ट लोगों के अलावा राज्यपाल और मुख्यमंत्री को विशेष रूप से आमंत्रित किया गया है। साथ ही, डैडीज डॉटर फ़िल्म की अभिनेत्री गरिमा रस्तोगी को लीग का ब्रांड ऐम्बसडर बनाया गया है।

नारी सशक्तिकरण की लिखेंगी नई कहानी

उन्होंने कहा है कि “हमसे न लो पंगा” में कबड्डी के माध्यम से नारी सशक्तिकरण की नई कहानी लिखने की कोशिश हो रही है। इसमें कोई भी स्कूल हिस्सा ले सकता है। इसमें आयु वर्ग 10 से 14 वर्ष (जूनियर) और आयु 15 से 18 वर्ष (सीनियर) टीमें होंगी। प्रतियोगिता के लिए स्कूल या फिर लड़कियों को कोई शुल्क नही देना है। आयोजन समिति सेमी फाइनल और फाइनल के लिए लखनऊ आने वाली खिलाड़ियों के रहने, खाने का भी सारा इंतज़ाम करेगा।

About Samar Saleel

Check Also

दलित छात्र-छात्राओं का हो रहा है उत्पीड़न : चंद्रशेखर

लखनऊ। शिक्षण संस्थाओं में बहुजन छात्र-छात्राओं को कथित जातिवादी मानसिकता और उत्पीड़न से बचाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *