Honeypreet के साथ 24 आरोपी कोर्ट में, उच्चाधिकारियों की मिलीभगत

डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह की सबसे बड़ी राजदार Honeypreet के साथ 24 आरोपियों पर पंचकूला कोर्ट में सुनवाई की जायेगी। जिसमें आरोपियों पर पंचकूला कोर्ट में चार्ज फ्रेम अर्थात आरोप तय करने के लिए बहस शुरू की जायेगी। पंचकूला की सेशन कोर्ट हनीप्रीत व अन्य को वीडियो कॉफ्रेंसिंग के माध्यम से पेश किया जायेगा।

Honeypreet, गंभीर धाराओं में दर्ज हैं केस

पंचकूला के इस मामले में गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है। जिसमें 25 अगस्त को पंचकूला में दंगे भड़काने की मुख्य आरोपी हनीप्रीत के खिलाफ FIR नंबर 345 में IPC की धारा 121, 121ए, 216, 145, 150, 151, 152, 153 और 120बी के तहत केस दर्ज किया गया है। हनीप्रीत साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद पंचकूला में हिंसा भड़काने और देशद्रोह मामले की आरोपी है। हनीप्रीत समेत 25 लोगों के खिलाफ SIT ने पंचकूला कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी। इसी के तहत उनके खिलाफ आरोप तय किया जा रहा है।

डेरा हिंसा मामले में डीएम व एसडीएम भी शामिल

डेरा सच्चा सौदा के हिंसा मामले में विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार सनसनीखेज खुलासा हुआ। जिसमें सामने आया कि पंचकूला के तत्कालीन एसडीएम पंकज सेतिया ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में दिए गए एक हलफनामे में कबूला है कि वह हिंसा में शामिल डेरा सच्चा सौदा के कई आरोपियों के संपर्क में थे। इसके लिए पंचकूला की तत्कालीन जिलाधीश गौरी प्रसाद जोशी ने आदेश जारी किए थे।

आरोपी जसवीर ने किया खुलासा

एसडीएम का मामला उस समय हाईकोर्ट के संज्ञान में आया जब हिंसा के एक आरोपी जसवीर सिंह ने कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दायर करते हुए दावा किया था कि वह पंचकूला के आला अधिकारियों और यहां तक कि ड्यूटी मजिस्ट्रेट पंकज सेतिया के संपर्क में भी था। हाईकोर्ट ने हरियाणा के अतिरिक्त गृह सचिव से इस बारे में जवाब मांगा था। लेकिन उन्होंने कोर्ट को बताया कि पंचकूला के अधिकारी बिना सरकारी अनुमति के ही डेरा के गुंडों के संपर्क में थे। सरकार ने किसी भी कथित शांति-समिति को बनाने के आदेश जारी नहीं किए थे। वहीं पंचकूला के एसडीएम पंकज सेतिया ने मंगलवार को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में दिए अपने हलफनामे में गृह सचिव को गलत ठहराया है।

जिलाधीश की अध्यक्षता में हुई थी बैठक

उन्होंने कहा कि पंचकूला जिलाधीश की अध्यक्षता में हुई बैठक में डेरा सच्चा सौदा के प्रतिनिधियों के साथ मिलकर एक पीस कमेटी गठित की गई थी। जिसके जरिए डेरा के लोगों को कानून व्यवस्था बनाए जाने और पंचकूला में लाखों लोगों पर नियंत्रण रखने के लिए कहा गया था।

About Samar Saleel

Check Also

ऑलिव ऑयल का ऐसे भी कर सकते हैं इस्तेमाल…

ऑलिव ऑयल की गिनती बेहद ही हेल्दी ऑयल्स में होती है और यही कारण है ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *