Rafael Case : Attorney General ने MiG21 की तारीफ किया

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट में राफेल सौदा मामले में दायर पुनर्विचार याचिकाओं पर बुधवार को सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल (Attorney General) केके वेणुगोपाल ने कुछ गंभीर तथ्‍य अदालत के समक्ष रखे। उन्‍होंने न्‍यायालय को सूचित किया कि कुछ लोक सेवकों द्वारा मामले से जुड़े कुछ दस्तावेज चुरा लिए गए और अखबार में प्रकाशित किए गए,इस मामले में जांच जारी है।

राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देकर बचना मुश्किल : जस्टिस जोसेफ

मामले की अगली सुनवाई 14 मार्च को तय की गई है। उन्‍होंने कहा कि फाइल नोटिंग न्यायिक अधिनिर्णय का विषय नहीं हो सकता है। समाचार पत्रों को राफेल से जुड़े दस्तावेज किसने दिया है, इस पर जांच जारी है। हम आपराधिक कार्रवाई करेंगे,ये सभी बेहद अहम दस्‍तावेज थे। हालांकि अदालत द्वारा इसकी जांच नहीं की जानी चाहिए। अटॉर्नी जनरल ने दलील देते हुए MiG21 का ज़िक्र किया और कहा कि इतना पुराना, ओल्ड जेनरेशन होने के बाद भी इसने बढ़िया परफॉर्मेंस किया है और हाल की घटना (पुलवामा) से जाहिर है कि हम कितने नाजुक दौर से गुजर रहे हैं। जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा कि अगर सबूत चुराये गए हों, और कोर्ट को लगता है कि साक्ष्य महत्वपूर्ण हैं तो कोर्ट इसपर विचार कर सकता है। जस्टिस के एस जोसेफ ने कहा कि अगर भ्रष्टाचार की जांच की मांग की जा रही है तो आप राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देकर बच तो नहीं सकते।

अटॉर्नी जनरल ने कहा कि हर बात की न्यायिक समीक्षा नहीं हो सकती। क्या हमें कोर्ट को ये भी बताना होगा कि जंग क्यों हुई। शांति का फैसला क्यों लिया गया। सुनवाई के दौरान राफ़ेल डील मामले में दायर पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान प्रशांत भूषण ने सौदे के बारे में रक्षा मंत्रालय की उस फ़ाइल नोटिंग को पेश किया, जिसे हिन्दू अखबार ने छापा था। लेकिन अटॉर्नी जनरल ने इस पर आपत्ति जताई और कहा कि ये चोरी किया हुआ है जांच चल रही है। इस बारे में मुक़दमा किया जाएगा।

8 फरवरी को छपी खबर पर कार्रवाई?

कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल से कहा कि वह लंच बाद कोर्ट को बताएं कि अगर हिन्दू अखबार में खबर आठ फरवरी को छपी थी तो उसके बाद क्या कार्रवाई की गई? AG ने रक्षा मंत्रालय के नोट को संज्ञान मे लेने का विरोध किया और कहा कि यह गोपनीय दस्तावेज है। इस मामले की सुनवाई CJI रंजन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस के एम जोसफ खुली अदालत में कर रहे हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं को देखने के बाद खुली अदालत में सुनवाई की इजाज़त दी थी। दरअसल, फैसले के एक हिस्से में सुधार को लेकर सरकार ने अर्ज़ी दी हुई है, जबकि गलत जानकारी देने का आरोप लगाते हुए प्रशांत भूषण, पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी ने पुनर्विचार याचिका दायर की हुई है। याचिका में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को राफेल को लेकर गलत जानकारी दी है। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने राफेल डील मामले में फैसला देते हुए केंद्र सरकार को क्लीन चिट दी थी। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि राफेल डील प्रक्रिया में कोई खामी नहीं हुई।

राफेल में रक्षा खरीद सौदे की तय प्रक्रिया का पालन

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने गत 31 अक्टूबर 2018 को सरकार को सील बंद लिफाफे में राफेल की कीमत और उससे मिले फायदे का ब्योरा देने का निर्देश दिया था। साथ ही कहा था कि सौदे की निर्णय प्रक्रिया व इंडियन आफसेट पार्टनर चुनने की जितनी प्रक्रिया सार्वजनिक की जा सकती हो उसका ब्योरा याचिकाकर्ताओं को दे। सरकार ने सौदे की निर्णय प्रक्रिया का जो ब्योरा पक्षकारों को दिया है जिसमें कहा गया था कि राफेल में रक्षा खरीद सौदे की तय प्रक्रिया का पालन किया गया है। 36 राफेल विमानों को खरीदने का सौदा करने से पहले डिफेंस एक्यूजिशन काउंसिल (DAC) की मंजूरी ली गई थी। इतना ही नहीं करार से पहले फ्रांस के साथ सौदेबाजी के लिए इंडियन नेगोसिएशन टीम (INT) गठित की गई थी, जिसने करीब एक साल तक सौदे की बातचीत की और खरीद सौदे पर हस्ताक्षर से पहले कैबिनेट कमेटी आन सिक्योरिटी (CCA) व काम्पीटेंटफाइनेंशियल अथॉरिटी (CFA) की मंजूरी ली गई थी।

About Samar Saleel

Check Also

योगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर चर्चाए हुई तेज

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की करीब ढाई वर्ष पुरानी योगी आदित्यनाथ सरकार का पहला मंत्रिमंडल विस्तार ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *