Holi का हिन्दू धर्म में विशेष स्थान

हिन्दू धर्म का एक प्रमुख त्योहार माने जाने वाला होली Holi का त्योहार बेहद हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। रंगों के इस त्योहार में जहां जमकर मस्ती की जाती है, वही दूसरी ओर वास्तुशास्त्र में भी इस त्योहार को बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। फाल्गुन मास की पूर्णिमा के दिन मनाए जाने वाले इस त्योहार के दौरान अगर इस छोटी−छोटी बातों का ध्यान रखा जाए तो यकीनन आप अपने जीवन में खुशियों के रंग की छटा बिखेर सकते हैं। तो चलिए जानते हैं इसके बारे में−

Holi में होलिका दहन

वास्तु के अनुसार, होली Holi में होलिका दहन किसी नगर, शहर या मोहल्ले के साउथ ईस्ट में किया जाना चाहिए। यदि आप होलिका पूजन अपने घर में कर रहे हैं तो उसे अपने पूजा स्थान में करने की बजाय किसी खुले आंगन या खुले स्थान में करें। अगर आपके घर के सेंटर यानी ब्रह्म स्थान में चैक आदि बना हुआ है तो आप वहां पर भी होलिका पूजन कर सकते हैं। हालांकि होलिका दहन घर के भीतर नहीं करना चाहिए।

बहुत से लोग अपने घरों की छतों पर ध्वजा या झंडा लगाते हैं। आमतौर पर लोग साउथ वेस्ट को ऊंचा करने के लिए ऐसा लगाते हैं। अगर आपके घर की ध्वजा पुरानी हो गई है या उसका रंग फेड हो गया है तो होली का दिन इस ध्वजा को बदलने के लिए काफी अच्छा रहता है।

होली का त्योहार आपस में

होली का त्योहार आपस में खुशियां व मस्ती बांटने का उत्सव है। इसलिए इस त्योहार को मनाते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि आपके द्वारा की गई मस्ती दूसरे के लिए दुख या परेशानी का सबब न बन जाए। खासतौर पर, इस त्योहार में केमिकल्स युक्त या हानिकारक रंगों का प्रयोग करने की बजाय नेचुरल व हर्बल कलर्स, फूल आदि का ही प्रयोग किया जाना चाहिए।

इसके अतिरिक्त रंगों का चयन करते समय भी वास्तु की पॉजिटिव दिशा यानी पूर्व व उत्तर दिशा से मिलते जुलते रंगों का ही प्रयोग करना चाहिए। उदाहरण के तौर पर, उत्तर पूर्व यानी गुरू के स्थान के लिए पीला रंग अच्छा व सकारात्मक होता है। यह सुख और समृद्धि को दर्शाता है। वहीं ऑरेंज कलर पूर्व दिशा के मध्य का रंग है, यह सूर्य का प्रतीक है। इसी तरह लाल रंग अग्नि देवता व साउथ ईस्ट का कलर है।

यह ऊर्जा को दर्शाता है। वहीं उत्तर दिशा बुध का स्थान है। बुध का रंग हरा होता है, जिसका प्रयोग होली में किया जा सकता है। यह प्रकृति को दर्शाता है। वहीं नकारात्मक दिशा जैसे साउथ वेस्ट के कलर्स जैसे भूरे व पश्चिम दिशा शनि का स्थान है और इसका रंग काला है, इनका प्रयोग बिल्कुल भी न करें।

 

About Samar Saleel

Check Also

राशिफल: इन राशिवालों को आज मिल सकते है आगे बढ़ने के लिए नए मौके व ऑफर

नक्षत्र अपनी चाल हर समय बदलते हैं। इन नक्षत्रों का हमारे ज़िंदगी पर भी बहुत ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *