BJP का मुंबई में 38वां स्थापना दिवस समारोह आयोजित

BJP का मुंबई में आज 38वां स्थापना दिवस समारोह आयोजित किया गया। पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में केंद्र के अलावा 21 राज्यों में सत्ता पर काबिज है। बीजेपी अपने इस स्थापना दिवस का जश्न जोर-शोर से मना रही है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मुंबई में स्थापना दिवस के अवसर तीन लाख कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शाम को 5 संसदीय क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद करेंगे।

पीएम मोदी ने BJP कार्यकर्ताओं को दी बधाई

भाजपा के 38वें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार सुबह ट्वीट कर सभी बीजेपी कार्यकर्ताओं को बधाई दी। इस मौके पर

पीएम मोदी ने ट्विटर पर एक वीडियो भी ट्वीट किया। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने भी कार्यकर्ताओं इस मौके पर बधाई दी।

अमित शाह मुंबई में कार्यकर्ताओं को करेंगे संबोधित

पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मुंबई में बड़ी रैली को संबोधित करेंगे। इस रैली को भाजपा की तरफ से मिशन 2019 का बिगुल फूंकने के तौर पर

amit-shah-mumbai

देखा जा रहा है। रैली में लगभग 3 लाख कार्यकर्ता शामिल होंगे। कार्यकर्ताओं के लिए 28 ट्रेनों और लगभग 5000 बसों की व्यवस्था की गई है। जिससे कार्यकर्ता देश के कई हिस्सों से मुंबई पहुंचेंगे। रैली को संबोधित करने के बाद अमित शाह यहां एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी संबोधित करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यकर्ताओं से करेंगे सीधे संवाद

भाजपा के स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 5 संसदीय क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं से सीधे संवाद करेंगे। इस मौके पर पीएम मोदी कार्यकर्ताओं से नमो ऐप के माध्यम से बात करेंगे। पांच संसदीय क्षेत्रों में नई दिल्ली मीनाक्षी लेखी, उत्तरी-पूर्वी दिल्ली से मनोज तिवारी, उत्तरी मध्य मुंबई पूनम महाजन, हमीरपुर (हिमाचल प्रदेश) से अनुराग ठाकुर और सारण (बिहार) से राजीव प्रताप रूडी शामिल हैं।

भाजपा की स्थापना

भारतीय जनता पार्टी का मूल श्यामाप्रसाद मुखर्जी की ओर से निर्मित 1951 में भारतीय जनसंघ है। जो 1977 में आपातकाल की समाप्ति के बाद जनता पार्टी के निर्माण के लिए जनसंघ व अन्य दलों के साथ विलय हुआ। जिसने 1977 में सत्ता में काबिज कांग्रेस पार्टी को हराकर आम चुनावों में जीत हासिल की और तीन वर्षों तक सरकार चलाई। इसके बाद 1980 में जनता पार्टी में आंतरिक कलह पैदा हो गई और जनता पार्टी की सरकार अपना कार्यकाल भी पूरा नहीं कर सकी। इसके बाद जनसंघ जनता पार्टी से अलग हो गई। 6 अप्रैल 1980 को भारतीय जनता पार्टी के नाम से नई पार्टी का गठन हुआ। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पार्टी के पहले अध्यक्ष बने। इसके बाद पार्टी ने 1985 में 2 लोक सभा सीटों पर विजय हासिल करने में सफलता ​हासिल की।

  • इसके बाद पार्टी ने रामजन्म भूमि आंदोलन के लिए संघर्ष किया।
  • राष्ट्रीय चुनाव 1996 में पार्टी भारतीय संसद में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी।
  • जिसे सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया और वह 13 दिन चली।
अटल बिहारी बाजपेयी और पीएम मोदी के नेतृत्व में बनी पूर्णकालिक सरकारें

1998 के आम चुनावों के बाद भाजपा के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) का निर्माण हुआ और अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में सरकार बनी, जो एक वर्ष तक चली। इसके बाद आम-चुनावों में राजग को पुनः पूर्ण बहुमत मिला और अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व में सरकार ने अपना कार्यकाल पूरा किया। इस प्रकार पूर्ण कार्यकाल करने वाली पहली गैर कांग्रेसी सरकार बनी। 2004 के आम चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा और अगले 10 वर्षों तक भाजपा ने संसद में मुख्य विपक्षी दल की भूमिका निभाई।

  • 2014 के आम चुनावों में राजग को गुजरात के लम्बे समय से चले आ रहे मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारी जीत हासिल हुई और 2014 में सरकार बनी।
  • इसके अलावा दिसम्बर 2017 के अनुसार भारतीय जनता पार्टी भारत के 29 राज्यों में से 19 राज्यों में सत्ता में है।
आम चुनावों का सफर एक नजर में—

1984 चुनाव – 2 सीटें

1989 चुनाव – 85 सीटें

1991 चुनाव – 120 सीटें

1996 चुनाव – 161 सीटें

1998 चुनाव – 182 सीटें

1999 चुनाव – 182 सीटें

2004 चुनाव – 138 सीटें

2009 चुनाव – 116 सीटें

2014 चुनाव – 282 सीटें के साथ पीएम मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी। जिसके बाद से भारत ने पूरे विश्व में अपनी अलग ही नई विकास नीति को बनाया। जिससे भारत विश्व में अब मेक इन इंडिया की तर्ज पर हर क्षेत्र में आगे बढ़ रहा है। भारत ने पीएम मोदी के नेतृत्व में विश्व पटल पर अलग छाप छोड़ने में सफलता हासिल की है।

रिपोर्ट—संदीप ​वर्मा

About Samar Saleel

Check Also

धारा 370 को लेकर दायर याचिका पर SC ने लगाई फटकार, CJI ने कहा- ‘ये किस तरह की याचिका है’

अनुच्छेद 370 को लेकर दायर की गई याचिका पर शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *