Kairana : उपचुनाव को लेकर बजा बिगुल

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश की कैराना Kairana संसदीय सीट पर उपचुनाव की तैयारियों में सभी राजनीतिक दल जुट गये हैं। समाजवादी पार्टी ने बूथ स्तर की तैयारियों को अंजाम देकर चुनावी बिगुल फूंक दिया है। कैराना के चुनाव के लिए पार्टी में उपयुक्त व मजबूत प्रत्याशी की तलाश शुरू कर दी गई है। इसके लिए अपने से दूर हो चुके अति पिछड़ी जाति के मतदाताओं को रिझाने के लिए उसी समुदाय के नेताओं को चुनाव तैयारियों में झोंक दिया है।

संसदीय क्षेत्र Kairana के चुनाव में

Kairana संसदीय क्षेत्र के चुनाव में समाजवादी पार्टी गोरखपुर और फूलपुर की तर्ज पर अपना प्रत्याशी उतारने की जुगत में है। इसके लिए बसपा के साथ गठबंधन को मजबूत बनाने पर जोर देने के साथ ही पार्टी के भीतर मजबूत प्रत्याशी के चयन पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। प्रदेश की कुछ चुनिंदा संसदीय सीटों में से एक कैराना में भाजपा का मुकाबला करने के लिए गठबंधन का मजबूत होना जरूरी है।

भाजपा विरोधी गठबंधन
राज्य में भाजपा विरोधी गठबंधन के बैनर तले चुनाव लड़ने की कवायद को अंजाम देने और उसमें शामिल होने के लिए राष्ट्रीय लोकदल के नेता अजित सिंह के पुत्र और पूर्व सांसद जयंत चैधरी ने बसपा मुखिया से मुलाकात की है। माना जा रहा है कि इस मुलाकात का मुख्य मकसद कैराना से जयंत चौधरी  को संयुक्त प्रत्याशी बनाने का आग्रह था।

बसपा की ओर से
सूत्रों का कहना है कि बसपा की ओर से फिलहाल कोई संकेत नहीं दिया गया है। पिछले चुनाव में कैराना में लोकदल प्रत्याशी को बहुत कम मत मिले थे। यहां के मुस्लिम मतदाताओं में राष्ट्रीय लोकदल पर संदेह है। दरअसल पिछले कई बार अजित सिंह भाजपा के साथ रहे हैं, जिससे रालोद प्रत्याशी के साथ मुश्किलें खड़ी हो सकती हैं। राज्यसभा चुनाव में रालोद विधायक ने बसपा का विरोध कर भाजपा के पक्ष में मतदान कर दिया था। रालोद कार्यकर्ताओं व दलित मतदाताओं के बीच तनातनी से भी बसपा नेतृत्व जयंत को समर्थन देने में कई बार सोचेगा।

उप चुनाव में अपना प्रत्याशी

दूसरी ओर, बसपा सैद्धांतिक तौर पर उप चुनाव में अपना प्रत्याशी नहीं उतारती है। ऐसे में वह समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी का समर्थन कर सकती हैं। विधानसभा परिषद के चुनाव में सपा ने अपने हिस्से की एक सीट बसपा के साथ गठबंधन धर्म को मजबूत बनाने के लिहाज से छोड़ दिया था। इससे बसपा उसका समर्थन सकती है। इन्हीं समीकरणों व तालमेल के मद्देनजर समाजवादी पार्टी की तैयारियां तेज हो गई हैं।

समाजवादी पार्टी के महासचिव
समाजवादी पार्टी के महासचिव सुरेंद्र नागर का कहना है कि समाजवादी पार्र्टी अपना प्रत्याशी उतारने की तैयारियां कर रही है, जिसके लिए बूथ स्तर पर संगठन को मजबूत बनाया जा रहा है। कैराना संसदीय सीट की पांचों विधानसभा क्षेत्रों के लिए दो-दो पर्यवेक्षकों की नियुक्ति की गई है। यहां के बूथ स्तर पर संगठन के गठन की प्रक्रिया को पूरा करना है। नियुक्त किये गये पर्यवेक्षकों में ज्यादातर अति पिछड़ी जाति के नेताओं को शामिल किया गया है।

भाजपा के संभावित प्रत्याशी
भाजपा के संभावित प्रत्याशी स्वर्गीय सांसद हुकुम सिंह की बेटी हो सकती हैं। माना जा रहा है कि सपा किसी गूजर नेताओं को यहां से प्रत्याशी नहीं बनाएगी। हालांकि, पार्टी के पास एमएलसी बीरेंद्र सिंह हैं। पार्टी किसी मुस्लिम को भी उम्मीदवार बनाने में हिचकेगी, क्योंकि उन्हें डर है कि कहीं चुनाव सांप्रदायिक रंग न पकड़ ले। अखिलेश यादव के खास डॉक्टर सुधीर पंवार को चुनाव मैदान में उतारे जाने की संभावना है। विवादों से परे डॉक्टर पंवार ने क्षेत्र का सघन दौरा भी शुरू कर दिया है।

About Samar Saleel

Check Also

अगले कुछ दिन में आ रहीं 6 जबरदस्त कारें, जानें इसकी डीटेल

पिछले कुछ दिनों से ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री मंदी के दौर से गुजर रहा है। लेकिन इस ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *