आतंकी मसूद अजहर को लेकर चीन और अमेरिका में बढ़ी तकरार

वाशिंगटन। जैश-ए-मोहम्‍मद के सरगना और पुलवामा आतंकी हमले के मास्‍टरमाइंड मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के मुद्दे पर भारत और पाकिस्‍तान के बाद अब चीन और अमेरिका के बीच तकरार बढ़ गई है। अमेरिका ने बुधवार को मसूद अजहर के खिलाफ इस कदम को सार्थक बनाने के लिए “सभी उपलब्ध रास्ते” का उपयोग करने की कसम खाई। जिसके बाद चीन ने वॉशिंगटन को चेतावनी देते हुए जगह किया कि उसका यह रवैया दक्षिण एशिया में व्याप्त तनावपूर्ण स्थिति को और जटिल बना सकता है।

15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक मसौदा पत्र

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता ने कहा कि “हम पुष्टि कर सकते हैं कि हमने ब्रिटेन और फ्रांसीसी समर्थन के साथ एक यूएनएससी प्रस्ताव का मसौदा तैयार किया है।” फ्रांसीसी प्रस्ताव पर चीन के अड़ंगा डालने के बाद अमेरिका ने उसे काली सूची में डालने और उसकी यात्रा पर पाबंदी लगाने के लिए 27 मार्च को 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में एक मसौदा पत्र वितरित किया था।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने पत्रकारों से वार्ता के दौरान कहा कि चीन इस मुद्दे का उचित हल करने के लिए रचनात्मक और तार्किक रुख अपना रहा है। उन्होंने विदेश विभाग के प्रवक्ता के एक बयान के बारे में सवाल पूछे जाने पर यह बात कही। प्रवक्ता ने कहा था कि अमेरिका अजहर को कालीसूची में डालने के लिए सभी उपलब्ध संसाधनों का इस्तेमाल करेगा।

जैश और पुलवामा हमले के बीच किसी तरह का संबंध

उल्लेखनीय है कि 14 फरवरी के पुलवामा हमले में जैश की संलिप्तता के बारे में भारत ने 27 फरवरी को दस्तावेज सौंपा था। जबकि,पाकिस्तान ने जैश और पुलवामा हमले के बीच किसी तरह का संबंध होने की बात से इनकार करते हुए भारत से और अधिक सबूत मांगा है। (एजेंसी)

About Samar Saleel

Check Also

छत्तीसगढ़ः नारायणपुर में मुठभेड़, सुरक्षाबलों ने 5 नक्सलियों को किया ढेर

छत्तीसगढ़ के नारायणपुर के अबूझमाड़ इलाके में सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई है। ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *