International बाल फिल्म महोत्सव का शुभारंभ

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल के फिल्म्स डिवीजन के तत्वावधान में विश्व का सबसे बड़ा International अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव (आई.सी.एफ.एफ.-2019) आज से  सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में प्रारम्भ हो गया। मुख्य अतिथि बृजेश पाठक, विधायी, न्याय एवं राजनीतिक पेंशन मंत्री, उ.प्र. ने दीप प्रज्वलित कर बाल फिल्मोत्सव का विधिवत् उद्घाटन किया जबकि प्रख्यात फिल्म अभिनेता बोमन ईरानी, फिल्म कलाकार गौरव गर्ग, विकास श्रीवास्तव, व रोशनी वालिया एवं बाल कलाकार आरव शुक्ला की उपस्थिति ने समारोह की गरिमा में चार-चाँद लगा दिये, साथ ही विभिन्न विद्यालयों से पधारे लगभग 10,000 छात्रों एवं विशिष्ट व अति-विशिष्ट अतिथियों की गरिमापूर्ण उपस्थिति ने इस आयोजन की सार्थकता सिद्ध कर दी।

International बाल फिल्मोत्सव का आयोजन

विदित हो कि International अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव का आयोजन 4 से 12 अप्रैल तक सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित किया जा रहा है, जिसका उद्देश्य भावी पीढ़ी का चरित्र निर्माण एवं सर्वांगीण विकास करना है। बाल फिल्मोत्सव का उद्घाटन करते हुए मुख्य अतिथि बृजेश पाठक, विधायी, न्याय एवं राजनीतिक पेंशन मंत्री, उ.प्र., ने कहा कि शिक्षात्मक बाल फिल्मों को निःशुल्क प्रदर्शित करना किशोरों व युवाओं को जीवन मूल्यों की शिक्षा देने का कारगर तरीका है।

बच्चे बचपन में जो देखते हैं वही बड़े होकर बन जाते हैं। इस फिल्म महोत्सव में बच्चों के अच्छी-अच्छी बाल फिल्में दिखाई जा रही है, जिससे बच्चों में नैतिकता का विकास होगा। मुझे विश्वास है कि यह अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव बच्चों के साथ ही साथ अभिभावकों व शिक्षकों में भी समाज के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाने में मदद करेगा। मैं इस शुभ कार्य के लिए सी.एम.एस. को बधाई देता हूँ। सी.एम.एस. प्रेसीडेन्ट प्रो. गीता गाँधी किंगडन ने आमन्त्रित अतिथियों, फिल्म कलाकारों व विभिन्न विद्यालयों से पधारे छात्रों का हार्दिक स्वागत करते हुए कहा कि मनुष्य का स्वभाव, संवेदनाएं, भय एवं भावनाएं आदि सारे विश्व में लगभग एक जैसी ही होती हैं। अतः विभिन्न देशों की शिक्षात्मक बाल फिल्में बच्चों को मनुष्य की संवेदनाओं से जोड़ती हैं और उन्हें अच्छा इंसान बनाती हैं।

किशोर बालिका के संघर्ष

उद्घाटन समारोह के उपरान्त अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव का शुभारम्भ बाल फिल्मोत्सव का शुभारम्भ नितिन चौधरी एवं के. के. मकवाना द्वारा निर्देशित भारत फिल्म ‘आई एम बन्नी’ से हुआ। यह फिल्म एक किशोर बालिका के संघर्ष व साहस को दर्शाती है जो स्वयं भी पढ़ना चाहती है, साथ ही अपने गांव की अन्य बालिकाओं के साथ ही गाँव वालों भी बालिकाओं की शिक्षा हेतु प्रेरित करती है।

इस अवसर पर आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेन्स में लखनऊ पधारे विशिष्ट अतिथियों ने इस ऐतिहासिक आयोजन पर अपने विचार व्यक्त किये। पत्रकारों से बातचीत करते हुए प्रख्यात फिल्म अभिनेता श्री बोमन ईरानी ने कहा कि बच्चों के चारित्रिक व नैतिक विकास के लिए फिल्म जैसे सशक्त माध्यम का उपयोग सी.एम.एस. की एक अनूठी पहल है। देश का भविष्य इन बच्चों के हाथ में ही है और मैं चाहता हूँ कि बच्चे बच्चों के लिए बनी फिल्में ही देंखें।

इस अवसर पर प्रख्यात शिक्षाविद् व सी.एम.एस. संस्थापक डा. जगदीश गाँधी ने बताया कि विश्व एकता व विश्व शान्ति को समर्पित इस नौ-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्मोत्सव की गरिमा बढ़ाने हेतु प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्रीगणों, प्रशासनिक अधिकारियों, फिल्म जगत की प्रख्यात हस्तियों एवं बाल कलाकारों का आगमन हो रहा है।

 

About Samar Saleel

Check Also

लगभग 14 महीने में पूरा होगा जम्मू व कश्मीर का परिसीमन, उठाए जाएंगे यह कदम

जम्मू व कश्मीर को दो केन्द्र शासित प्रदेशों में विभाजित किए जाने के कुछ दिनों बाद, चुनाव आयोग परिसीमन ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *