Educational बाल फिल्मों से हजारों छात्रों ने ली जीवन मूल्यों की सीख

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल द्वारा सी.एम.एस. कानपुर रोड ऑडिटोरियम में आयोजित किये जा रहे 9-दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव (आई.सी.एफ.एफ.-2019) का आठवाँ दिन लखनऊ के 24 विद्यालयों से पधारे लगभग 12,000 से अधिक छात्रों की गहमा-गहमी व चहल-पहल से परिपूर्ण रहा एवं सभी ने Educational शिक्षात्मक बाल फिल्मों का खूब आनन्द उठाया। बाल फिल्मोत्सव में आज का दिन चरित्र निर्माण व जीवन मूल्यों की शिक्षा देने वाली एक से बढ़कर एक बाल फिल्मों से गुलजार रहा। इसके अलावा, बच्चों के उत्साहवर्धन हेतु पधारे बाल कलाकार दर्शील सफारी, प्रभजोत सिंह एवं अनिरुद्ध दवे ने समारोह की गरिमा में चार चांद लगा दिये। हजारों की संख्या में उपस्थित छात्रों व युवाओं ने दिल खोलकर इनका स्वागत किया। अन्तर्राष्ट्रीय बाल फिल्म महोत्सव में 101 देशों की बेहतरीन शिक्षात्मक बाल फिल्में निःशुल्क दिखाई जा रही हैं।

Educational बाल फिल्मोत्सव

इससे पहले, मुख्य अतिथि  अनिल कुमार मिश्रा, रजिस्ट्रार, फर्म, सोसाइटी एवं चिट्स, ने दीप प्रज्वलित कर आई.सी.एफ.एफ.-2019 के आठवें दिन का विधिवत् शुभारम्भ किया जबकि विशिष्ट अतिथि मनोज रंजन त्रिपाठी, मैनेजिंग एडीटर, न्यूज वर्ल्ड इण्डिया ने अपनी उपस्थिति से समारोह की गरिमा को बढ़ाया।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में मुख्य अतिथि अनिल कुमार मिश्रा ने कहा कि सी.एम.एस. का यह Educational शिक्षात्मक बाल फिल्मोत्सव बच्चों को जीवन मूल्यों की शिक्षा देने का कारगर तरीका है। जीवन के जिन नैतिक सिद्वान्तो के बारे में हम बच्चों को बताते हैं, उन्हें बाल फिल्मों के माध्यम से जीवन्त रूप से बच्चों को दिखाना बहुत ही प्रेरणादायी है। इनमें जीवन के विविध आयाम समाये हुए हैं जो छात्रों को सही व गलत का चुनाव करने की योग्यता प्रदान करेंगे।

आई.सी.एफ.एफ.-2019 के आठवें दिन का शुभारम्भ गिरीश बिजाल द्वारा निर्देशित भारतीय फिल्म ‘हेडमास्टर वामनराव’ से हुआ। इसके अलावा सी.एम.एस. कानपुर रोड के मेन ऑडिटोरियम के अलावा अन्य सात मिनी आडिटोरियम में भी देश-विदेश की अनेक फिल्मों का प्रदर्शन हुआ, जिनमें फ्लाइंग चाइल्ड, द बर्ड एण्ड द व्हेल, फनी फिश, बेटा, गुब्बारे, लेट्स सेव बॉबी, इट्स हार्ड टू बी ए पोटैटो, द मैन हू बिल्ड ड्रगन्स, माँ, डोन्ट लूज हर्ट, मैकेनिकल लिक्विड, द ट्री, समर हॉलीडेज, एलियन्स, माई फादर द फिश, नॉट फॉर सेल, 365 डेज, द लिटिल फिश एण्ड द क्रोकोडाइल, लास्ट एण्ड फाउण्ड, इन सर्च ऑफ पॉल, द एन्जल रिर्टन्स, बड़े काम की चीज, मदर्स डे आदि प्रमुख हैं।

विभिन्न देशों की अलग-अलग भाषाओं में बनी फिल्मों को अंग्रेजी व हिन्दी अनुवाद भी फिल्म के साथ-साथ ही चलता रहता है जिससे बच्चे आसानी से फिल्म के कथानक को समझ सकें।

 

About Samar Saleel

Check Also

रालोद ने प्रदेश सरकार पर बोला हमला

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के प्रदेश अध्यक्ष डाॅ0 मसूद अहमद ने कहा कि प्रदेश सरकार ने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *