Champawati की साहित्यिक- सांस्कृतिक धरोहर पर पत्रिका का प्रकाशन

बीनागंज। चाचौड़ा बीनागंज का प्राचीन नाम Champawati चंपावती नगरी है। चंपावती नगरी का इतिहास सांस्कृतिक विरासत साहित्यिक कृतियां क्षेत्र की प्रमुख हस्तियां दर्शनीय और पुरातत्व महत्व की इमारतें प्रमुख धार्मिक मंदिर स्थानीय स्थानीय साहित्यकारों की रचनाएं समाहित करके चंपावती नामक पत्रिका का प्रकाशन किया जाएगा।

Champawati से सबंधित पत्रिका का संपादन

चंपावती Champawati से सबंधित पत्रिका का संपादन इंदौर में निवासरत नायिका अवार्ड से सम्मानित डॉ रीता जैन प्राचार्य चोइथराम महाविद्यालय इंदौर के द्वारा किया जाएगा पत्रिका के प्रकाशन उपरांत चाचौड़ा बीनागंज में पत्रिका का विमोचन किया जाएगा पत्रिका का सह संपादन अभिषेक जैन एडवोकेट के द्वारा किया जाएगा। फिलहाल अंचल के सभी साहित्यकारों की रचनाएं कथित की जा रही है तथा जन श्रुति के आधार पर चंपावती नगरी का इतिहास एकत्रित किया जाएगा चाचौड़ा किले के बारे में जानकारी एकत्रित की जाएगी क्षेत्र के प्रमुख व्यक्तियों का विवरण पत्रिका में दिया जाना है अतः क्षेत्र की प्रमुख हस्तियों की जानकारी जुटाई जा रही है क्षेत्र के प्रमुख दर्शनीय और धार्मिक स्थलों का विवरण भी पत्रिका में दिया जाएगा।

चंपावती पत्रिका की संपादक डॉ रीता जैन चोइथराम कॉलेज ऑफ प्रोफेशनल स्टडीज इंदौर में प्राचार्य हैं तथा इंदौर में निवासरत हैं। उनके द्वारा इस पत्रिका को साकार रूप दिया जा रहा है। डॉ रीता जैन ने प्राणी शास्त्र विषय में स्नातकोत्तर एवं एम फिल लेजर विषय मैं प्रवीण सूची में विशेष योग्यता के साथ देवी अहिल्या विश्वविद्यालय में प्रथम स्थान प्राप्त किया डॉ रीता जैन के द्वारा जीवन विज्ञान विषय में डायनासोर एवं अन्य जीवो के जीवाश्म खोजने एवं लंदन के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर एंड यू स्मिथ के साथ अनुसंधान कर प्राणी शास्त्र विषय में पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है। डॉ रीता जैन के द्वारा एमबीए की उपाधि मानव संसाधन विषय में प्राप्त कर मैनेजमेंट विषय में भी पीएचडी की उपाधि प्राप्त की है।

उपलब्धियों को देखते हुए

शिक्षा के क्षेत्र में उनकी उपलब्धियों को देखते हुए वर्ष 2009 में इन्हें नईदुनिया नायिका अवार्ड से सम्मानित किया गया है। डॉ रीता जैन के द्वारा जीवन विज्ञान एवं प्रबंधन विषय पर कई राष्ट्रीय संगोष्ठी में भाग लिया है विशेष रूप से स्नातक एवं स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम में जीवाश्म विषय पर एक इकाई के रूप में डॉ रीता जैन के पाठ्यक्रम को सम्मिलित किया गया है तथा इसे इंटरनेशनल जर्नल्स में भी प्रकाशित किया गया है। पत्रिका के सह संपादन की जिम्मेदारी चाचौड़ा में वकालत व्यवसाय कर रहे अभिषेक जैन को सौंपी गई है। श्री जैन पत्रकारिता तथा सामाजिक साहित्यिक गतिविधियों में अग्रणी भूमिका निभाते हैं। हाल ही में अभिषेक जैन का सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी के पद पर चयन हुआ है परंतु प्रशासकीय नियमों के चलते उनकी पोस्टिंग नहीं हो पाई है।

विष्णु शाक्यवार
विष्णु शाक्यवार

 

About Samar Saleel

Check Also

इसरों ने ट्वीटर पर शेयर करी चंद्रयान-2 द्वारा भेजी गई चांद की पहली तस्वीर, आप भी देखे

 इसरो के महत्वाकांक्षी मिशन चंद्रयान-2 ने चांद की पहली तस्वीर भेज दी है। इस तस्वीर को ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *