China की बैठक में नहीं शामिल होगा भारत

चीन China के विभिन्न मार्गों से विश्व को जोड़ने वाले महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट “बेल्ट एंड रोड फोरम“ की दूसरी बैठक में भी भारत शामिल नहीं होगा। इस बार अमेरिका ने भी इसका हिस्सा बनने से इनकार कर दिया है। हालांकि, इन दोनों देशों के अलावा, खरबों डॉलर के चीनी प्रोजेक्ट से संबंधित गुरुवार से शनिवार तक चलने वाले तीन दिवसीय सम्मेलन में करीब 37 देश शिरकत करेंगे।

China में स्थित अमेरिकी दूतावास ने

चीन China में स्थित अमेरिकी दूतावास ने भी एलान किया है कि वह इस सम्मेलन में अपने अधिकारियों को नहीं भेजेगा। चूंकि इस मुद्दे पर दोनों देशों के बीच विवाद हैं। अमेरिकी दूतावास के प्रवक्ता ने बताया कि अमेरिका का वॉशिंगटन से अपने अफसरों को इस सम्मेलन में भेजने का कोई इरादा नहीं है। हालांकि, वर्ष 2017 में हुए पहले सम्मेलन में अमेरिका का प्रतिनिधित्व व्हाइट हाउस के सलाहकार मैट पोटिंगर ने किया था। उसके बाद से इटली समेत कई देशों ने बेल्ट एंड रोड फोरम पर दस्तखत किए हैं।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने बेल्ट एंड रोड प्रोजेक्ट को वर्ष 2013 में शुरू किया था। इसका मकसद राजमार्गों, रेलवे लाइनों, बंदरगाहों और समुद्री रास्तों के जरिए एशिया, अफ्रीका और यूरोप को जोड़ना है। इस परियोजना के लिए चीन ने अरबों डॉलर अपने 60 साझीदार देशों पर खर्च किए हैं। श्रीलंका, मालदीव और पाकिस्तान जैसे उसके साझीदार देश उसकी परियोजना के तहत उसके कर्ज में डूब चुके हैं।

इससे भारत सहित कई देशों की चिंता बढ़ी है कि यह चीन का कर्ज में फंसाने वाला कोई जाल हो सकता है। इस सम्मेलन में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान भी शामिल होंगे। साल 2017 में हुए सम्मेलन की ही तरह इस बार सौ से अधिक अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधि भी इसमें शामिल होंगे। हालांकि, भारत पिछले साल की ही तरह इस सम्मेलन में भाग नहीं लेगा क्योंकि वह इस परियोजना का विरोध कर रहा है।

 

About Samar Saleel

Check Also

ब्राजीलियाई राष्ट्रपति ने अमेजन के जंगलों में लगी आग से निपटने के लिए भेजी सेना

ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो ने सेना को अमेजन के जंगलों में लगी आग से ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *