JNU professor पर यौन उत्पीड़न का केस दर्ज

जवाहरलाल नेहरु यूनिवर्सिटी (JNU) दिल्ली में पिछले दिनों प्रोफेसर अतुल जौहरी पर 8 स्टूडेंट के यौन उत्पीड़न के लगे आरोप का विवाद अभी खत्म नहीं हुआ था कि दूसरा विवाद शुरू हो गया। इस नये विवाद में JNU professor सेंटर ऑफ़ स्टडीज इन साइंस पॉलिसी डिपार्टमेंट के राजबीर पर एक छात्रा ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। जिसमें पुलिस ने असिस्टेंट प्रोफेसर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। पुलिस के अनुसार एफआईआर धारा 354 और 506 के तहत दर्ज की गई हैं।

JNU professor, अश्लील हरकत के बाद देता था धमकी

छात्राओं के अनुसार प्रोफेसर अक्सर गलत नजरों से देखता रहता था। मौका पाने पर वह उनके साथ अश्लील हरकतें करता था। छात्राओं के मना करने पर उन्हें धमकी देकर उनका मुंह बंद करवा देता था। इस बार भी छात्रा ने शिकायत में आरोप लगाया है कि 9 फरवरी को वह और उसके कुछ साथी छात्र प्रोफ़ेसर राजबीर को एक प्रोटेस्ट में शामिल होने के लिए बुलाने उनके ऑफिस गए थे। लेकिन इस दौरान प्रोफेसर किसी बात को लेकर गुस्सा हो गए और उसने सभी छात्रों को धक्का देते हुए पीटना शुरू कर दिया। छात्रा का आरोप है कि इस दौरान प्रोफेसर राजबीर ने उसे गलत तरीके से छुआ और मना करने के बावजूद भी वह लगातार ऐसा करता रहा। इसके बाद राजबीर ने छात्रा को धमकी देते हुए कहा कि अगर उसने पुलिस में शिकायत की तो वह उसे देख लेगा।

प्रोफेसर लांबा पर भी यौन उत्पीड़न का आरोप

जेएनयू में प्रोफेसर अतुल जौहरी के साथ ही स्कूल ऑफ़ इंटरनेशनल स्टडीज़ के प्रोफेसर महेंद्र पी लामा पर भी यौन शोषण के आरोप लग चुके हैं। वह भी यौन उत्पीड़न के मामले में पीछे नहीं हैं। उन पर भी एक छात्रा ने 17 जनवरी को चीन टूर के दौरान किये गये यौन उत्पीड़न का खुलासा करते हुए आरोप लगाये हैं। छात्रा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि चीन टूर पर प्रोफेसर लांमा ने उसका यौन शोषण किया था।

स्कॉलर छात्राओं की सुरक्षा के लिए बने नीति

छात्राओं ने आये दिन की जाने वाली प्रताड़ना के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए विरोध किया। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि स्कालर छात्राओं की सुरक्षा के लिए और उनका शोषण न होने पाये इसके लिए नीति बनाई जाये। यौन शोषण की बढ़ रही घटनाओं को देखते हुए ऐसे प्रोफेसरों के खिलाफ कड़े नियम बनाये जाये। जिससे शर्मनाक घटनाओं से छात्राओं को सुरक्षा मिल सके।

About Samar Saleel

Check Also

रक्षामंत्री ने दिए संकेत- सरकार बदल सकती है ‘No First Use’ की न्यूक्लियर पॉलिसी

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाहट से इधर-उधर भटक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *