Konsa : लेखपाल पर लगे आरोपों की जांच पूरी, शीघ्र सौंपी जायेगी रिपोर्ट

सताँव(रायबरेली)। ब्लाक क्षेत्र की Konsa कोन्सा पंचायत के लेखपाल अमित सिंह पर लगे गैर इरादतन हत्या के आरोप की जाँच गुरुवार को नायब तहसीलदार विनोद चौधरी व कानूनगो श्रीमती संतोष यादव ने मौके पर जाकर पूरी की। दोनों जाँच अधिकारियों ने दोनों पक्षों के करीब आधा दर्जन गवाहों के बयान दर्ज किये। बाद में उन्होने कहा कि वे अपनी जाँच आख्या शीघ्र ही सदर के उप जिलाधिकारी को सौंप देंगे। बयान दर्ज कराने वाले ज्यादातर ग्रामीणों ने स्वीकार किया कि लेखपाल व नीरज त्रिवेदी से नोंक झोंक हुयी और लेखपाल के जाने के थोडी ही देर बाद उनकी हृदयगति रुकने के कारण मौत हो गयी।

Konsa में सहन की जमीन को लेकर हुआ था विवाद

उल्लेखनीय है कि Konsa कोन्सा निवासी आशीष त्रिवेदी व पड़ोस की रजनी पत्नी कमला धोबी के बीच सहन की जमीन को लेकर विवाद था। आशीष ने उप जिलाधिकारी सदर से लिखित शिकायत की है कि इसी मामले में 12 मई 2018 दिन शनिवार को कोन्सा लेखपाल अमित सिंह अपने तीन अन्य साथियों के साथ कोन्सा गाँव पहुंचे थे।

आरोप है कि लेखपाल ने आशीष के पिता को धमकाया व अपमानित किया, जिसकी वजह से लेखपाल के जाने के थोडी ही देर बाद उनके पिता नीरज त्रिवेदी की मृत्यु हो गयी। आशीष ने लेखपाल अमित पर अपने पिता की गैर इरादतन हत्या का आरोप लगाया है।

ज्यादातर गवाहों ने लेखपाल पर लगे आरोपों को सही ठहराया

उपजिलाधिकारी ने इस प्रकरण को गंभीरता से लिया और नायब तहसीलदार विनोद चौधरी तथा कानूनगो सन्तोष यादव को अविलम्ब जाँच करके आख्या देने के निर्देश दिये। दोनों जाँच अधिकारी गुरुवार को दोपहर बाद कोन्सा गाँव पहुंचे और मौका मुआयना किया। करीब आधा दर्जन प्रत्यक्ष दर्शियों के बयान भी दर्ज किये।

जाँच के दौरान पराजित प्रधान प्रत्याशी रोशनी देवी के पति बब्लू लोधी ने कई बार आरोपी लेखपाल को बचाने के लिए जाँच प्रभावित करने की कोशिश की। बयानों में ज्यादातर गवाहों ने लेखपाल पर लगे आरोपों को सही ठहराया। नायब तहसीलदार ने कहा कि वे शीघ्र ही पूरी रिपोर्ट उप जिलाधिकारी को सौंप देंगे।

ये भी पढ़ें – Konsa : लेखपाल की धमकी व अपमान से पीड़ित वृद्ध की हार्ट अटैक से मृत्यु

गिरीश अवस्थी

About Samar Saleel

Check Also

देश की सेवा में शहीद हुए सैनिक की पत्नी को मिला यह तोहफा, हथेलियां बिछाकर लोगो ने…

वीरता के कई किस्‍से आपने सुने होंगे, मगर सैनिक की वीरगति के बाद वीरांगाना को जिस तरह ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *