Rajasthan में जलस्वावलंबन अभियान में मिली कामयाबी

Rajasthan में पानी की समस्या को लेकर प्रदेश में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का जल स्वावलंबन अभियान धरातल पर कारगर साबित हुआ। जिससे भयंकर गर्मी और काफी नीचे पहुंच चुके पानी के जलस्तर को सुधारने में कामयाबी ​​हासिल हुई है। एक समय में राजस्थान का एक तिहाई क्षेत्र जलसंकट से जूझ रहा था। लेकिन भाजपा की राजे सरकार के जलस्वावलंबन अभियान से जल संकट से निपटने में कामयाबी मिली है। ​जिससे राजस्थान में पेड़ों को लगाकर हरियाली को बढ़ावा दिया गया। इसके साथ खेती की स्थिति में बेहतर सुधार लाने में भी कामयाबी हासिल हुई।

Rajasthan, दो चरणों के संपन्न होने पर तीसरे और चौथे चरण की शुरूआत

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के दो चरणों के सफलता पूर्वक संपन्न होने के बाद तीसरे और चौथे चरण की तैयारियां युद्ध स्तर पर शुरू कर दी गई हैं। मुख्यमंत्री वुसंधरा राजे के जल बचाओ नीती से राजस्थान के एक तिहाई क्षेत्र अब जलसंकट से बाहर आ चुका है। रिवर बेसिन अथॉरिटी की बैठक में जल स्वावलंबन योजना को त्वरित पूरा करने के निर्देश सभी विभागों को जारी किए गए हैं।

ग्रामीण क्षेत्र में भूजल स्तर बढ़ा

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सरकार ने तेजी से गिर रहे भूजल में सुधार लाने का प्रयास अब रंग दिखाने लगे है। राजस्थान में जल संसाधन विभाग द्वारा भूजल स्तर के सबसे चिंताजनक बने करीब तीन सौ डार्क जोन में सौ से अधिक इलाकों की स्थिति में सुधार हुआ है। जल संसाधन विभाग की रिवर बेसिन अथॉरिटी द्वारा मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना के दो चरण पूरे करने पर सौ डार्क जोन में जल स्तर में व्यापक सुधार हुआ है। प्रथम दो चरणों में जल स्वावलंबन क्षेत्र में किए गए कार्य से अंडरग्राउंड वाटर की स्थिति में दशकों बाद पहली बार सुधार दिखा है। जल स्वावलंबन योजना की समीक्षा के लिए आयोजित बैठक में सभी विभागों की ओर से पेश किए गए आंकड़ों में बेहद सकारात्मक प्रभाव सामने आए हैं। जल स्वावलंबन योजना ने ग्रामीण क्षेत्रों में भूजल स्तर बढ़ाने में कामयाबी हासिल की है।

  • वहीं शहरी क्षेत्रों में ग्राउंड वाटर के आंकड़ों में व्यापक सुधार लाने में सफलता ​हासिल की है।

मानसून में जल स्तर में होगा अधिकतम सुधार

रिवर बेसिन अथॉरिटी ने सभी विभागाध्यक्षों को मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान को गंभीरता से लेने के निर्देश जारी किए हैं। अभियान में आ रही तकनीकी और व्यावहारिक समस्याओं को सभी विभागों को मिलकर दूर करने के निर्देश दिये हैं। रिवर बेसिन अथ्योरिटी का मानना है की आगामी मानसून में जल स्वावलंबन योजनाओं को और ​अधिक बेहतर तरीके से व्यापक स्तर पर सुधारा जा सकता है।

यह खबर भी देखें—

Chhattisgarh: पीएम मोदी ने कई योजनाओं का किया शुभारंभ

About Samar Saleel

Check Also

ऑलिव ऑयल का ऐसे भी कर सकते हैं इस्तेमाल…

ऑलिव ऑयल की गिनती बेहद ही हेल्दी ऑयल्स में होती है और यही कारण है ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *