Bhayyu ji : रिपोर्ट, तनावमुक्त स्थिति में खुद को मारी गोली

Bhayyu ji महाराज ने किसी आवेश या गुस्से में आकर आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि उन्होंने शांतिपूर्ण माहौल में 15 से 20 मिनट विचार करने के बाद खुद को गोली मारी थी। भय्यू जी महाराज की आत्महत्या को लेकर फोरेंसिक एक्सपर्ट की टीम ने रिपोर्ट दी है। एक्सपर्ट ने बताया कि आत्महत्या के एक लाख मामलों में से एक मामला ऐसा आता है, जो इस तरह का होता है। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र के अनुसार, फोरेंसिक रिपोर्ट फिलहाल अभी नहीं आई है।

  • अफसर मामले की जांच में जुटे हुए हैं।
  • इसके साथ अभी तक जो रिपोर्ट में सामने आया है, उससे स्पष्ट है कि आत्महत्या ठंडे दिमाग से की गई है।

Bhayyu ji, फोरेंसिक टीम का निष्कर्ष और पुलिस टीम की जांच

फोरेंसिक टीम अब तक घटनास्थल की जांच में 7 मुख्य बिंदुओं को जोड़कर निष्कर्ष निकालने में जुटी है। वहीं पुलिस भी मामले में अभी किसी को क्लीनचिट नहीं दी है। भय्यूजी महाराज ने 12 जून को इंदौर स्थित अपने घर में खुद को गोली मार ली थी।

जांच में सामने आए ये 7 बिंदु

  1. भय्यू जी महाराज ने आत्महत्या वाले दिन 12 जून को पत्नी आयुषी के साथ चाय पी। इसके बाद अपने हाथों से पसंद की साड़ी देकर कहा कि तैयार होकर डिग्री लेने जाओ।
  2. भय्यू जी अपने साथ रिवॉल्वर छिपाकर ले गए और कमरे के आसपास रहने वाले नौकरों को सीढ़ियों पर भी बैठने नहीं दिया था, जिससे वह गोली चलने की आवाज न सुन सकें।
  3. आत्महत्या और सुसाइड नोट अलग-अलग कमरे में पाये गये। सुसाइड नोट को डायरी में लिखना और डायरी को तीन डायरियों के बीच में व्यवस्थित तरीके से रखा गया। ऐसा वे ही लोग कर सकते हैं जो जान देने से पूर्व पूरी तरह से तनावमुक्त रहते हैं।
  4. आत्महत्या से पहले भय्यूजी का मोबाइल और सुसाइड नोट सब बेहतर तरीके से रखे मिले। जबकि आत्महत्या के मामले में व्यक्ति तत्काल फांसी लगाता है या खुद को शूट कर लेता है।इसके साथ उसका मोबाइल फोन इधर-उधर पड़ा मिलता है और सुसाइड नोट जेब में या आस पास मिलता है।
  5. आत्महत्या करने वाला शख्स सुसाइड नोट में अक्सर अपने खून के रिश्ते या बेहद करीबी लोगों का जिक्र करता है, जबकि भय्यू जी ने बेटी कुहू, पत्नी आयुषी के साथ अपनी मां का भी का कही जिक्र नहीं किया। इससे जांच में जुटी टीम पत्नी व बेटी से नाराजगी की उम्मीद जता रही है। इसके बावजूद वह मौत के बाद पत्नी व बेटी को पुलिस जांच की उलझन से बचाना चाहते थे। भय्यू जी के सुसाइड से पहले कुहू लंदन जाने वाली थी, लेकिन भय्यूजी ने टिकट कैंसल करवा दिया था।
  6. भय्यू जी का अपनी बेटी कुहू से बेहद लगाव था। इसलिए मरने से पहले उन्होंने उसका कमरा साफ करवाया और नई बेड शीट भी डलवाई। बेड शीट खून से गंदी न हो, इसलिए कमरे के एक कोने में बीन बैग पर बैठकर खुद को गोली मारी।
  7. जांच टीम के अनुसार ऐसा भी पहली बार देखा गया कि सुसाइड नोट में दो अलग-अलग वाक्यों में अपनी लिखी बात और हर वाक्य के नीचे सिग्नेचर किए अर्थात् डायरी के एक ही पेज पर उन्होंने दो बार सिग्नेचर किया।

यह खबर भी देखें—Government jobs के लिए 25 हजार पदों पर वैकेंसी

About Samar Saleel

Check Also

रक्षामंत्री ने दिए संकेत- सरकार बदल सकती है ‘No First Use’ की न्यूक्लियर पॉलिसी

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाहट से इधर-उधर भटक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *