डलमऊ : मलबे में दबकर किशोरी की हालत गम्भीर

डलमऊ(रायबरेली)। लगातार मूसलाधार बारिश होने की वजह से कच्चे मकानों के कमर टूटने लगी। शनिवार की बीती रात भारी बारिश की वजह से डलमऊ कस्बे के मोहल्ला शेरनन्दाजपुर निवासी रामसहाय निषाद का मकान भरभराकर ढह गया, जिसके मलबे के नीचे दबकर रामसहाय की 12 वर्षीय पुत्री सुहानी गंभीर रूप से घायल हो गई।

डलमऊ : अफसर भी कर रहे लापरवाही

मलबे के नीचे दबने से सुहानी व परिजनों की चीख पुकार सुनकर कस्बेवासियों ने किसी तरह मलबे के नीचे से किशोरी को गंभीर अवस्था में बाहर निकाला और आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए। जहां पर उसका घंटों इलाज जारी रहा।

वही उसके बगल में पंकज पुत्र उमाशंकर निषाद का भी कच्चा मकान गिर गया, जिसके मलबे के नीचे दबकर उसका घर गृहस्थी का सामान नष्ट हो गया है। कस्बेवासियों ने बताया कि इस घटना की सूचना जब एसडीएम डलमऊ एवं तहसीलदार को दूरभाष के माध्यम से देने की कोशिश की गई तो उनका मोबाइल बंद था। इससे नाराज लोगों ने जिलाधिकारी को फोन कर इस घटना की सूचना दी परंतु घंटों बाद भी मौके पर कोई नहीं पहुंचा।

वही मुसलाधार बारिश की वजह से शुक्रवार को शेरनन्दाजपुर मोहल्ला निवासी बंटे निषाद एवं मियां टोला निवासी इलियाश हुसैन का मकान पहले ढह चुका है लेकिन प्रशासन अभी तक मौके पर किसी भी अधिकारी को नहीं भेजा है। तहसील स्तरीय अधिकारियों की लापरवाही कारण कस्बेवासियों को परेशानियों से जूझना पड़ रहा है।

लगातार गंगा का जलस्तर बढ़ने की वजह से बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों को बाढ का खतरा सताने लगा है, वही दूसरी तरफ तहसील प्रशासन के अधिकारियों का सरकारी सीयूजी नंबर भी बंद है। ऐसी स्थिति में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से पीड़ित ग्रामीण अगर सरकारी सहयोग की मांग करें तो किससे, जब अधिकारियों के नंबर ही बेजान हो गए हो।

♦डलमऊ से अन्य ख़बरें♦

⇒ करंट की चपेट में आकर बालिका की हालत गंभीर

डलमऊ(रायबरेली)। कोतवाली क्षेत्र के ग्राम नरेंद्रपुर निवासी गया प्रसाद की 10 वर्षीय पुत्री दीपाली शनिवार को शाम के समय अपने खेत में किसी जरूरी कार्य से गई हुई थी तभी अचानक उसका पैर खेत में पड़े विद्युत संचालित तार पर पड़ गया, जिससे वह करंट की चपेट में आकर गंभीर रूप से झुलस गई। बालिका की चीख पुकार सुनकर खेत में काम कर रहे  अन्य लोग उसकी तरफ दौड़ पड़े तथा किसी तरह उससे करंट से मुक्त कराया और आनन-फानन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया, जहां पर चिकित्सकों ने नाज़ुक हालत देखकर बालिका को जिला अस्पताल रेफर कर दिया है।

रत्नेश मिश्रा
रत्नेश मिश्रा

About Samar Saleel

Check Also

दिल्ली सरकार का 10वीं-12वीं के छात्रों तोहफा- नहीं देनी होगी बोर्ड परीक्षा की फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) के 10वीं और 12वीं बोर्ड की फीस बढ़ाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *