अलगाववादियों ने कश्मीर बंद किया, स्थिति तनावपूर्ण

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 35-ए की सुनवाई टल गई है। इसे लेकर अलगाववादियों ने कश्मीर बंद बुलाया है। सुनवाई के कारण राज्य में हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं और एहतियातन अमरनाथ यात्रा भी रोक दी गई है। अनुच्छेद के हटने की आशंका को देख बुलाए गए दो दिवसीय बंद का असर रविवार को भी नजर आया।

अलगाववादियों के बंद के दौरान

अलगाववादियों के बंद के दौरान कुछ स्थानों पर हिंसा हुई, लेकिन पुलिस ने हालात पर जल्द काबू पा लिया। पुलिस प्रशासन ने लोगों को नजरबंद कर दिया है। वहीं बनिहाल-बारामुला रेल सेवा को अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। बंद का असर जम्मू के डोडा और रामबन तक नजर आया। इस अनुच्छेद के जरिए वहां की विधानसभा को राज्य के स्थायी निवासी की परिभाषा तय करने का अधिकार मिलता है।

अलगाववादी हुर्रिंयत चेयरमैन मीरवाइज मौलवी उमर फारूक, कट्टरपंथी सैयद अली शाह गिलानी, पीपुल्स पोलिटिकल पार्टी के चेयरमैन हिलाल अहमद वार, तहरीके हुर्रिंयत कश्मीर के प्रमुख मुहम्मद अशरफ सहराई समेत सभी प्रमुख अलगाववादी नेताओं को उनके घरों में शनिवार रात को ही नजरबंद कर दिया गया था। जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के चेयरमैन यासीन मलिक नजरबंदी से बचने के लिए पुलिस के पहुंचने से पहले ही कहीं भूमिगत हो गए।

हंदवाड़ा, लोलाब के अलावा बड़गाम, गांदरबल, दक्षिण कश्मीमर के पांपोर, पुलवामा, कुलगाम, अनंतनाग, त्राल और शोपियां में हड़ताल रही। श्रीनगर के जालडगर, परिपोरा और डाउन-टाउन के कुछ हिस्सों में शाम होते शरारती तत्वों ने भड़काऊ नारेबाजी करते हुए सुरक्षाबलों पर पथराव किया। सुरक्षा कर्मियों ने त्वरित कार्रवाई कर स्थिति पर काबू पा लिया।

 

About Samar Saleel

Check Also

रक्षामंत्री ने दिए संकेत- सरकार बदल सकती है ‘No First Use’ की न्यूक्लियर पॉलिसी

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही पाकिस्तान बौखलाहट से इधर-उधर भटक ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *