Social Media पर फैलाया धार्मिक उन्माद, तो होगी कार्रवाई

अब Social Media पर आपत्तिजनक पोस्ट या फोटो को लाइक, शेयर और उनपर कमेंट करना भारी पड़ सकता है क्यूंकि ऐसा करना धार्मिक उन्माद फैलाने जैसा है। जिसपर रासुका (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत कार्रवाई की जाएगी।

Social Media : आपत्तिजनक पोस्ट पर नजर

लखनऊ के एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि सोशल मीडिया पर कुछ लोग बेहूदा पोस्ट डालते हैं, जो कि धार्मिक उन्माद फैलाने जैसा है। इससे समाज में धार्मिक तनाव पैदा होता है और इस तरह का काम करने वालों पर अब पुलिस कड़ी नजर रखेगी। ऐसे लोगों पर सामान्य धाराओं के साथ ही रासुका के तहत कार्रवाई की जाएगी। फेसबुक, ट्विटर और व्हाट्सएप पर जिले की साइबर सेल पैनी नजर रखेगी।

मेरठ में सोशल मीडिया सेल की स्थापना

आपत्तिजनक फोटो व पोस्ट करने वालों पर नजर रखने के लिए प्रदेश सरकार मेरठ में सोशल मीडिया सेल की स्थापना की है। इस लैब के जरिये सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक फोटो व पोस्ट डालने वालों का पता लगाया जाएगा। इससे यह भी पता चलेगा कि आपत्तिजनक पोस्टों को कितने लोगों ने फॉरवर्ड, लाइक और इस पर कमेंट किया है। अपराधी की पहचान होने के बाद स्थानीय पुलिस आरोपी पर कार्रवाई करेगी।

मेरठ में सोशल मीडिया लैब दिल्ली आईआईटी के विशेषज्ञों की जिम्मेदारी होगी। इसके माध्यम से फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब पर आपत्तिजनक पोस्ट व फोटो डालने वालों की मॉनिटरिंग कर उन पर कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस की लापरवाही नहीं बर्दाश की जायेगी

सोशल मीडिया से पूरी तरह से आपत्तिजनक फोटो और पोस्ट का खात्मा करने के लिए सख्ती बरती जा रही है। ऐसे में अगर आरोपियों के लिए पुलिस की लापरवाही भी सामने आती है, तो उन पर भी कार्यवाई की जाएगी।
सोशल साइट्स पर आपत्तिजनक पोस्ट माहौल बिगाड़ते हैं और खासकर आने वाले दिनों में त्योहारों की लड़ी लगने वाली है। ऐसे में अगर किसी भी तरह के ऐसे फोटो व पोस्ट डाले जाते हैं, जो ऑब्जेक्शनल हो, तो इससे धर्म के नाम पर हिंसा भड़कती है व गलत मैसेज जाता है।

रवि गोकुल

About Samar Saleel

Check Also

दिल्ली सरकार का 10वीं-12वीं के छात्रों तोहफा- नहीं देनी होगी बोर्ड परीक्षा की फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) के 10वीं और 12वीं बोर्ड की फीस बढ़ाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *