गड्ढामुक्त के नाम पर जनता के धन का बंदरबांट : Shivkaran Singh

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय सचिव Shivkaran Singh शिवकरन सिंह ने प्रदेश सरकार के सूबे को गड्ढामुक्त करने के दावे की पोल खोलते हुये कहा कि प्रदेश की सड़कों में इतने भारी भरकम गड्ढे हो गये है जिससे यातायात तो बाधित हो ही रहा है साथ ही सड़क दुर्घटनाएं बढ़ गयी है।

सैकड़ों की संख्या में जर्जर सड़कें : Shivkaran Singh

राष्ट्रीय लोकदल के राष्ट्रीय सचिव शिवकरन सिंह ने कहा कि बनारस से जौनपुर होते हुए सुल्तानपुर, फैजाबाद अयोध्या मार्ग तथा प्रदेश की राजधानी लखनऊ आने के लिए सड़क पूर्ण रूप से गड्ढा युक्त है। दुर्भाग्य है कि देश के प्रधानमंत्री के क्षेत्र से उत्तर प्रदेश की राजधानी को जोड़ने वाला अति महत्वपूर्ण मार्ग कब बनेगा देखने योग्य है। इसकी फोटोग्राफी सरकार स्वयं करा ले क्योंकि यह सड़क एक नमूना है। ऐसी ही सैकड़ों की संख्या में सडके है जिनकी स्थित जर्जर है और गड्ढा मुक्त के नाम पर जनता के धन का बंदरबांट किया जा रहा है। यह बजट कहां इस्तेमाल हो रहा है उत्तर प्रदेश की जनता जरूर जानना चाहती है। सरकार बताएं इतना अधिक टैक्स लेने के बाद भी सड़कों की जर्जर स्थित क्यों है। सरकार ने स्वयं गड्ढा मुक्त की घोषणा शपथ लेते ही किया था, अब तो शपथ लिए हुए डेढ़ वर्ष हो गये है।

लखनऊ में भी नहीं हैं गड्ढा मुक्त सड़कें

श्री सिंह ने आगे कहा कि लखनऊ राजधानी के अंदर भी पारा रोड, चिनहट पुल के पास तथा जेल रोड जिस पर हजारों गाडि़यां दिन भर में निकलती हैं गडढायुक्त देखी जा सकती है। 2019 में जनता सरकार को धक्के मारकर निकाल देगी और उत्तर प्रदेश सरकार की कलई खुल जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश का किसान और भूतपूर्व सैनिक तथा बेरोजगार युवा दुखी है।

बंद कारखाने को देख कर लोग पुरानी सरकारों को याद करते हैं। भूतपूर्व सैनिकों से आम जनता से भी अधिक टैक्स व सैनिक प्रांगण की दुकानों का किराया वसूला जा रहा है। आम व्यापारी वाले अधिकार भूतपूर्व सैनिक को नहीं मिल रहे हैं। 26 जनवरी से प्रदेश के भूतपूर्व सैनिक अपनी 10 सूत्री मांगों को लेकर आंदोलन शुरू करेंगे। राष्ट्रीय लोक दल भूतपूर्व सैनिकों को पूरा समर्थन करता है।

वरुण सिंह

About Samar Saleel

Check Also

दिल्ली सरकार का 10वीं-12वीं के छात्रों तोहफा- नहीं देनी होगी बोर्ड परीक्षा की फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) के 10वीं और 12वीं बोर्ड की फीस बढ़ाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *