बंगीय नागरिक समाज ने ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय को दी श्रद्धांजलि

लखनऊ बंगीय नागरिक समाज द्वारा एक महान समाज सुधारक, स्वत़ंत्रता सेनानी एवं बंगाल के पुनर्जागरण के स्तम्भों में एक पंडित ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय की 198वीं पुण्य तिथि का आयोजन किया गया। हजरतगंज स्थित मुकीम होटल में आयोजित हुई इस गोष्ठी में लखनऊ बंगीय नागरिक समाज के सदस्यों ने ईश्वर चंद्र विद्यासागर के चित्र पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी और अपने विचार व्यक्त किए।

धार्मिक कुरीतियों के सख्त विरोधी थे ईश्वर चंद्र बंदोपाध्याय

बंगीय समाज के मुख्य संयोजक प्रकाश कुमार दत्ता ने महान समाज सेवक की पुण्यतिथि पर अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि 26 सितंबर 1820 को घटल में जन्में ईश्वर चंद्र विद्यासागर एक शिक्षा शास्त्री व स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ साथ वह महिलाओं के साथ धार्मिक कुरूतियों के नाम पर किये जाने वाले अत्याचारों के सख्त विरोधी थे। यही वजह थी कि उन्हीं के प्रयासों से 1856 में विधवा पुर्नविवाह कानून पारित हुआ। गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर ने उन्हें आधुनिक बंगाल काव्य का जनक कहा और उन्हीं की विद्वता के कारण उन्हें विद्यासागर की उपाध्रि भी दी गई।

इस अवसर पर बंगाली समाज द्वारा पूर्व में शासन-प्रशासन में प्रस्तावित अपनी मांगो को दोहराया। अपनी पहली मांग के अंतर्गत भातखंडे संगीत विद्यालय के सामने से जानी वाली सड़क का नाम महान संगीतकार पंडित विष्णु नारायण भातखंडे के नाम पर किया जाए, वहीं रवींद्र उपवन को एक हरे-भरे पार्क के रूप में विकसित करने के साथ ही रवींद्र प्रतिमा स्थल के पास से पार्क में जाने के लिए एक गेट का निर्माण किया जाए एवं प्रतिमा के चारो ओर एक बेरीकेडिंग की व्यवस्था की जाए।

लखनऊ बंगीय नागरिक समाज ने हनुमान सेतु से डालीगंज जाने वाली सड़क को भी राष्ट्रगीत रचीयता बंकिम चंद्र चटोपाघ्याय के नाम पर किये जाने की मांग को दोहराया। लालबाग स्थित अतुल प्रसाद सेन प्रतिमा स्थित पार्क को एपी सेन पार्क के नाम से विकसित किया जाए।

प्रतिमाओं पर छतरी लगवाये

मुख्य संयोजक ने बताया कि शहर में जगह-जगह स्थित महान हस्तियों की प्रतिमाओं पर छतरी लगवाये जाने का प्रयास भी बंगाली समाज द्वारा किेया जा रहा है। लखनऊ बंगीय नागरिक समाज लगातार शासन-प्रशासन से अपनी मांगो को पूरा कराए जाने की पुरजोर कोशिश कर रही है।

इस अवसर पर हाल ही में होने वाले दुर्गा पूजा विसर्जन कार्यक्रम हेतु विसर्जन समिति के लिए पीके दत्ता, रूपेश मंडल, आर चक्रवर्ती, डीके हलधर का चेयर मैन, प्रेसीडेंट, वाइस प्रेसीडेंट, जनरल सेके्टरी आदि पदों पर चयन किया गया।

कार्यक्रम में मानसी दत्ता, रत्ना बाकुली, ममता अधिकारी, सोमनाथ घोष, पीसेन पाल, टीके भट्टाचार्या,अरिम्दन भट्टाचार्या, रोथिन चक्रबर्ती, आरएस निगम, अभीजीत अधिकारी समेत कई अन्य लोग उपस्थित रहे।

About Samar Saleel

Check Also

हरियाणा: करनाल में 54 साल की महिला से गैंगरेप, आराेपियों की तलाश जारी

हरियाणा के करनाल में एक 54 साल की महिला के साथ गैंगरेप का मामला सामने ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *