भारतीय क्रिकेट का सबसे बुरा दौर विश्वकप-2007 : सचिन

मास्टर बलास्टर सचिन तेंदुलकर ने कहा कि भारतीय टीम के लिये 2007 का विश्व कप सबसे बुरा दौर था। एक कार्यक्रम में यहां पहुंचे तेंदुलकर ने कहा कि वेस्टइंडीज में 2007 विश्व कप के पहले दौर में टीम के बाहर होने के बाद भारतीय क्रिकेट में कई सकारात्मक बदलाव आए। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में रिकार्डों के बादशाह के तौर पर जाने जाने वाले इस खिलाड़ी ने कहा, मुझे लगता है 2006-07 का सत्र हमारे (टीम) लिये सबसे बुरा था।
हम विश्व कप के सुपर आठ दौर के लिये भी क्वालीफाई नहीं कर सके थे। लेकिन हमने वहां से वापसी की, नये तरह से सोचना शुरू किया और सहीं दिशा में आगे बढ़ना शुरू किया।’’ राहुल द्रविड के नेतृत्व में उस विश्व कप में भारतीय टीम ग्रुप चरण में श्रीलंका और बांग्लादेश से हार कर बाहर हो गयी थी। तेंदुलकर ने कहा, विश्व कप के बाद हमें कई बदलाव करने पड़े और एक बार जब हमने यह तय कर लिया कि टीम के तौर पर हमें क्या करना हैं तो हम पूरी शिद्दत के साथ उसे करने के लिय प्रतिबद्ध थे जिसके नतीजे भी आए।’’

About Samar Saleel

Check Also

वेस्टइंडीज के आठ विकेट झटक कर इशांत शर्मा ने टीम इंडिया को जीताया टेस्ट मैच

बल्ले से उपयोगी पारी खेलने के बाद तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (42 रन पर 5 विकेट) ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *