BJP ने अपने लाभ के लिए राम मंदिर का मुद्दा बना रखा है : RLD

लखनऊ। राष्ट्रीय लोकदल RLD के प्रदेश प्रवक्ता सुरेन्द्रनाथ त्रिवेदी ने कहा कि अयोध्या में आयोजित होने वाली धर्मसंसद का महत्व कुछ अनावश्यक तत्वों द्वारा आतंक का वातावरण बनाकर कम किया जा रहा है। संत महंत का जीवन सम्पूर्ण समाज के लिए होता है जिसमें कोई धर्म अथवा सम्प्रदाय विशेष की चर्चा नहीं होती जबकि अयोध्या में ऐसा वातावरण बनाया जा रहा है कि दूसरे धर्म और सम्प्रदाय के लोग भयभीत हों। सम्पूर्ण समाज के प्रति मंगल कामना प्रत्येक संत का धर्म होता है। अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान राम का मंन्दिर बनाने में समाज के किसी भी वर्ग के किसी भी व्यक्ति को कोई आपत्ति नहीं है। भारतीय जनता पार्टी ने स्वयं अपने लाभ के लिए राममन्दिर का मुददा बना रखा है यदि उसके द्वारा मन्दिर का निर्माण हो जाता है तो मुद्दा स्वतः ख़त्म हो जाता।

RLD : राजनीति की रोटियां सेंककर वोटों का ध्रुवीकरण

श्री त्रिवेदी ने कहा कि 6 दिसम्बर 1992 की घटना के फलस्वरूप उ0प्र0 का सामाजिक असंतुलन लगभग 10 वर्षो बाद समाप्त हो पाया और सभी धर्म और सम्प्रदाय के लोग पुनः आपस में घुल-मिलकर रहने लगे। अब पुनः ऐसा डरावना वातावरण इसलिए बनाया जा रहा है कि धर्म संसद की आड़ लेकर कतिपय आसामाजिक तत्वों द्वारा सामाजिक सदभाव को पुनः समाप्त किया जाए और राजनीति की रोटियां सेंककर आने वाले लोकसभा चुनाव के लिए वोटों का ध्रुवीकरण किया जाए।

संतो का सारा जीवन समाज के कल्याण के लिए

समाज में इस दूषित वातावरण के प्रतिफल के रूप में जो कुछ घटित होगा उसका दोषी भारतीय जनता पार्टी द्वारा संत और महंतों को ठहराया जायेगा जबकि उसमें संत और महंतो की कोई भूमिका नहीं होगी क्योंकि संतो का सारा जीवन समाज और देश के कल्याण के लिए होता है।

लाखों की भीड़ में असामाजिक तत्वों द्वारा..

रालोद प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि केन्द्र और प्रदेश दोनो में ही भारतीय जनता पार्टी की सरकारे हैं और अयोध्या में 14 कोसी परिक्रमा चल रही है जिसमें देश ही नहीं विश्व के कोने-कोने से भक्तगण अपनी आस्था के साथ आते हैं। अयोध्या में कानून व्यवस्था के साथ-साथ शान्ति व्यवस्था भी बनी रहे इसकी जिम्मेंदारी दोनो ही सरकारों की है। लाखों की भीड़ में असामाजिक तत्वों द्वारा किसी भी प्रकार की अनहोनी की आशंका से मुंह मोड़कर बैठना उचित नहीं होगा।

About Samar Saleel

Check Also

दिल्ली सरकार का 10वीं-12वीं के छात्रों तोहफा- नहीं देनी होगी बोर्ड परीक्षा की फीस

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकंडरी एजुकेशन (CBSE) के 10वीं और 12वीं बोर्ड की फीस बढ़ाने के ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *