स्वर्ण मंदिर का भव्य इतिहास

स्वर्ण मंदिर हरमंदिर साहिब के नाम से भी जाना जाता है, और सिख धर्म का यह मुख्य देवस्थान भी है, जिसे देखकर दुनिया भर के लाखों लोग आकर्षित होते है, केवल सिख धर्म के लोग ही नही बल्कि दूसरे धर्मो के लोग भी इस मंदिर में आते है।
ऐसा एक सुन्दर गुरुद्वारा अमृतसर के बीच में स्थापित है, जहा आज भी दुनिया भर से लाखो श्रद्धालु आते है। इस मंदिर का मुख्य केंद्र बिंदु इसपर सोने की परत चढ़ी होना है।
स्वर्ण मंदिर की रोचक बातें:-
श्री हरमंदिर साहिब (देवस्थान) जिसे श्री दरबार साहिब और विशेष रूप से स्वर्ण मंदिर के नाम से जाना जाता है, यह सिख धर्म के लोगो का धार्मिक गुरुद्वारा है जिसे भारत के पंजाब में अमृतसर शहर में स्थापित किया गया है। स्वर्ण मंदिर अमृतसर की स्थापना 1574 में चैथे सिख गुरु रामदासजी ने की थी।पाँचवे सिख गुरु अर्जुन ने हरमंदिर साहिब को डिजाइन किया और धार्मिक मान्यताओ के अनुसार हरमंदिर साहिब के अंदर सिख धर्म का प्राचीन इतिहास भी बताया गया है। हरमंदिर साहिब कॉम्पलेक्स अकाल तख्त पर ही स्थापित किया गया है।
हरमंदिर साहिब को सिखो का देवस्थान भी कहा जाता है। हरमंदिर साहिब बनाने का मुख्य उद्देश्य पुरुष और महिलाओ के लिये एक ऐसी जगह को बनाना था जहा दोनों समान रूप से भगवान की आराधना कर सक। सिख महामानवों के अनुसार गुरु अर्जुन को मुस्लिम सूफी संत साई मियां मीर ने आमंत्रित किया था। हरमंदिर साहिब में बने चार मुख्य द्वार सिखो की दूसरे धर्मो के प्रति सोच को दर्शाते है, उन चार दरवाजो का मतलब कोई भी, किसी भी धर्म का इंसान उस मंदिर में आ सकता है। वर्तमान में तकरीबन 125000 से भी जादा लोग रोज स्वर्ण मंदिर में भक्ति-आराधना करते हैं। आज के गुरुद्वारे को 1764 में जस्सा सिंह अहलूवालिया ने दूसरे कुछ और सिक्खो के साथ मिलकर पुनर्निर्मित किया था।19 वी शताब्दी के शुरू में ही महाराजा रणजीत सिंह ने पंजाब को बाहरी आक्रमणों से बचाया और साथ ही गुरूद्वारे के ऊपरी भाग को सोने से ढक दिया, और तभी से इस मंदिर की प्रसिद्धि को चार-चाँद लग गए थे।
स्वर्ण मंदिर के उत्सव:-
सिखों का मुख्य उत्सव जिसे वहाँ मनाया जाता है वह है- बैसाखी जो अप्रैल माह के दूसरे सप्ताह में मनाया जाता है। इसी दिन सिख लोग खालसा की स्थापना का उत्सव भी मनाते है। सिखो के दूसरे महत्वपूर्ण दिनों में गुरु राम दास का जन्मदिन, गुरु तेग बहादुर का मृत्युदिन, सिख संस्थापक गुरु नानक देव का जन्मदिन इत्यादि शामिल है। इस दिन सिख लोग ईश्वर भक्ति करते है।
स्वर्ण मंदिर की आठ खास बातेंः-
1. श्री हरमंदिर साहिब के नाम का अर्थ “भगवान का मंदिर” है और इस मंदिर में सभी जाती-धर्म के लोग बिना किसी भेदभाव के आते है और भगवान की भक्ति करते है।
2. इस मंदिर के बारे में एक और रोचक बात यह है की आप चारो दिशाओ से इस मंदिर में प्रवेश कर सकते हो क्योकि चारो दिशाओ में इस मंदिर के प्रवेश द्वार बने हुए है. और यह लोगों की एकता को दर्शाता है।
3. अमृत सरोवर के बिच में ही स्वर्ण मंदिर को बनाया गया है, अमृत सरोवर को सबसे पवित्र सरोवर भी माना जाता है।
4. संरचनात्मक रूप से यह मंदिर जमीन की सतह से ज्यादा ऊपर नही बना है और यह हिन्दू मंदिरो के बिल्कुल विरुद्ध है, क्योकि हिन्दुओ के बहुत से मंदिर जमीन से थोड़े ऊँचे बने हुए होते है।
5. इस मंदिर को बार-बार कई बार उजाड़ा गया था, पहले मुघल और अफगानों ने और फिर भारतीय आर्मी और आतंकवादियो के मनमुटाव में. और इसी वजह से इसे सिख धर्म की विजय का प्रतिक भी माना जाता है.
6. स्वर्ण मंदिर का मुख्य हॉल गुरु ग्रन्थ साहिब का घर था।
7. कहा जाता है की स्वर्ण मंदिर आज एक वैश्विक धरोहर है, जहा देश ही नही बल्कि विदेशो से भी लोग आते है और इसकी लंगर सेवा भी दुनिया की सबसे बड़ी सेवा है, यहाँ 40000 से जादा लोग रोज सेवा करते है।
8. और इस मंदिर की सबसे रोचक और जानने योग्य बात यह है की यह मंदिर सफेद मार्बल से बना हुआ है और जिसे असली सोने से ढका गया है और इसी वजह से इसे स्वर्ण मंदिर भी कहा जाता है।

About Samar Saleel

Check Also

राशिफल : आज इस राशि के जातको को ऑफिसर से मिलेगा तनाव, लेकिन इससे बचने के लिए करे यह

राशियों का प्रभाव 12 राशियों में से हर आदमी की अलग राशि होती है, जिसकी मदद से आदमी यह जान ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *