सूचना आयोग CIC की तर्ज पर बुलाये वार्षिक अधिवेशन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित सामाजिक संगठन येश्वर्यराज की संस्थापिका और आरटीआई कार्यकत्री उर्वशी शर्मा ने यूपी राज्य सूचना आयोग के मुख्य सूचना आयुक्त,रजिस्ट्रार,सचिव और उपसचिव को अलग-अलग पत्र भेजकर यूपी सूचना आयोग में हर साल केन्द्रीय सूचना आयोग(CIC) की तर्ज पर वार्षिक सम्मलेन बुलाने की मांग की है। इसके लिए उन्होंने एक प्रस्ताव आयोग को भी सौंपा है। उर्वशी ने बताया कि ‘येश्वर्याज’ लखनऊ स्थित एक अपंजीकृत सामाजिक संगठन है जो विगत 17 वर्षों से अनेकों सामाजिक क्षेत्रों के साथ-साथ ‘लोकजीवन में पारदर्शिता संवर्धन और जबाबदेही निर्धारण’ के क्षेत्र में निरंतर कार्यरत है। उर्वशी ने बताया कि वर्ष 2005 में लागू हुआ सूचना का अधिकार कानून अर्थात आरटीआई एक्ट देश के सबसे क्रांतिकारी कानूनों में एक है। इस कानून ने सरकारी सूचनाओं तक आम आदमी की पहुंच सुनिश्चित की है। कई घोटालों का खुलासा भी आरटीआई से मिली जानकारियों से हुआ है। उत्तर प्रदेश में सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 का क्रियान्वयन कराने में उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग की भूमिका सर्वोपरि है। ऐसे में यह आवश्यक है कि यूपी का सूचना आयोग भी केन्द्रीय सूचना आयोग द्वारा आयोजित किये जाने वाले वार्षिक अधिवेशन की तर्ज पर उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग का वार्षिक अधिवेशन आयोजित करे। जिससे सूबे में सूचना के अधिकार के सभी स्टेकहोल्डर्स को भी एक प्लेटफार्म पर आकर पिछले एक साल में पारदर्शिता और जबाबदेही के लिए किये गए अपने-अपने प्रयासों को आपस में साझा करने का और आपस में विचार-विमर्श करके अपने अपने क्षेत्र में सुधार करने का मौका मिल सके। उर्वशी ने बताया कि संस्था के प्रबंधकीय सदस्य की हैसियत से उन्होंने आज उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग के मुख्य सूचना आयुक्त,रजिस्ट्रार,सचिव और उपसचिव को अलग-अलग पत्र भेजकर यूपी सूचना आयोग में हर साल केन्द्रीय सूचना आयोग की तर्ज पर वार्षिक सम्मलेन बुलाने की मांग की है और इस सम्बन्ध में एक प्रस्ताव आयोग को दिया है।

About Samar Saleel

Check Also

प.बंगाल: श्रद्धालुओं पर गिरी मंदिर की दीवार, 4 की मौत, CM ने किया मुआवजे का ऐलान

पश्चिम बंगाल में कृष्ण जन्माष्टमी के दिन मंदिर में बड़ा हादसा हो गया है, यहां ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *