Aligarh : किसानों ने आवारा पशुओं को स्कूल में किया बंद

अलीगढ/हाथरस। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार जहां एक तरफ लगातार गोशालाओं के निर्माण के दावे कर रही है तो वही दूसरी तरफ आवारा पशुओं के खिलाफ लोगों का लगातार बढ़ता जा रहा है। प्रदेश के कई इलाकों में लोगों ने आवारा पशुओं को सरकारी स्कूलों में बंद कर बच्चों को बाहर निकालकर स्कूल के गेट पर ताला जड़ दिया। लोगों का यह गुस्सा जायज इसलिए भी कहा जा सकता है क्योंकि आवारा पशुओं के कारण किसानों की फसलों का नुकसान हो रहा है।

आवारा पशुओं की समस्या पर भड़के किसान

आवारा पशुओं की समस्या पर ठोस कार्यवाई न होने से भड़के किसान अब प्रशासन से आर-पार की लड़ाई के मूड में नजर आ रहे हैं। यूपी के मथुरा, अलीगढ़, जौनपुर और गोंडा समेत कई जगहों पर ग्रामीणों ने आवारा पशुओं स्कूल में बंद कर दिया। मथुरा और अलीगढ के कई इलाकों में किसानों ने सरकारी स्कूलों में आवारा पशुओं को ले जाकर बंद कर दिया और स्कूल की छुट्टी करा दी।

जानकारी के मुताबिक अलीगढ़ में इगलास क्षेत्र के किसानों ने सैकड़ों आवारा पशुओं को गांव के प्राथमिक विद्यालय और बेसवां कस्बा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर के अंदर बंद कर दिया। किसानों का आरोप है कि प्रशासन को कई बार आवारा जानवरों के आतंक से अवगत कराने के बावजूद कोई कार्यवाई नहीं की जा रही है। किसानों का कहना है कि ये आवारा जानवर खेतों में जाकर उनकी फसलों को चौपट कर दे रहे हैं।

हाथरस दौरे पर आये मंडलायुक्त से मिला प्रधानों का दल

इस समस्या को लेकर प्रधानों का एक प्रतिनिधिमंडल हाथरस दौरे पर आये मंडलायुक्त से मिला। मंडलायुक्त ने स्कूलों में आवारा पशुओं को बंद करने की प्रकिया को गलत बताया और ग्रामीणों से ऐसा न करने की अपील की। मंडलायुक्त ने कहा है कि सरकार इस समस्या के समाधान के लिए जनपद स्तर पर गोशालाओं के निर्माण के लिए धन जारी कर रही है। लेकिन, अनुपयोगी होने के बाद ऐसे पशुओं को लोग छोड़ देते है। उन्होंने कहा कि हाथरस जिला प्रशासन गांव स्तर पर भी छोटी-छोटी गोशालाओं के निर्माण की पहल कर रहा है।

उधर यूपी के गोंडा में आवारा सांड़ों से परेशान होकर ग्रामीणों ने 50 से अधिक सांड़ों को एक प्राथमिक विद्यालय के अंदर बंद कर गेट पर ताला लगा दिया। जब सुबह प्रधानाध्यापक स्कूल पहुंचे तो, बच्चों की जगह सांड़ों को देखकर दंग रह गए। ग्रामीणों की नाराजगी को देखते हुए प्रधानाध्यापक ने इसकी सूचना अपने उच्चाधिकारियों को देने के बाद थाने में लिखित प्रार्थना पत्र दिया। पुलिस ने मौके पहुंची पुलिस ने ग्रामीणों को समझा बुझाकर जब ताला खुलवाकर जानवरों को बाहर निकाला तब जाकर बच्चे अंदर पढ़ने जा सके।

About Samar Saleel

Check Also

पूर्व प्रधान की गोली मार कर हत्या

बागपत। जिले के धनौरा सिल्वरनगर गांव में बाइक सवार तीन हथियारबंद बदमाशों ने एक पूर्व ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *