Breaking News

फिक्की फ्लो ने किया पद्मश्री डॉ. कल्पना सरोज के साथ संवाद कार्यक्रम

लखनऊ। फिक्की फ्लो लखनऊ चैप्टर ने आज यहाँ पद्मश्री डॉ कल्पना सरोज  जो कि राख से सितारे की तरह उठने के लिए जानी जाती हैं के साथ एक संवाद कार्यक्रम आयोजित किया। एक असाधारण महिला जोकि 2000 करोड़ की कंपनी की मालिक होने के साथ ही अपने साथ दलित बालिका के रूप में दुर्व्यवहार सहने वाली अपनी प्रेरक कहानी के लिए जानी जाती है।
शादी के लिए स्कूल छोड़ने से लेकर, एक मरती हुई कंपनी को एक दुर्जेय साम्राज्य में पुनर्जीवित करने तक, उनकी कहानी वास्तव में प्रेरणादायक है।  फ्लो लखनऊ के सदस्यों को डॉ कल्पना सरोज से मिलने का मौका मिला, जिन्होंने मूल स्लमडॉग मिलियनेयर के रूप में खुद को वर्णित किया। उन्होंने व्यावहारिक रूप से उपस्थित  सभी को अवाक और मंत्रमुग्ध कर दिया।  वह एक संपन्न भारतीय उद्यमी, मुंबई में कमानी ट्यूब्स की चेयरपर्सन हैं।
जब वह 12 साल की थी, तब घरेलू कामों में छोटी-छोटी गलतियों के लिए उनके ससुराल वालों ने उन्हें बुरी तरह प्रताड़ित किया।  लेकिन वह उसी शहर में लौट कर आई, जहां उनकी कहानी में खटास आई थी, और उसकी गलियों से लेकर उसकी गगनचुंबी इमारतों तक उन्होंने सब कुछ जीत लिया।  उन्हें महिलाओं को वित्तीय सहायता, आजीविका, और सबसे महत्वपूर्ण आशा प्रदान करके एक हजार लोगों की जान बचाने का गौरव प्राप्त है। यहां तक ​​​​कि उन्होंने अपने “टर्फ” में प्रवेश करने वाली साहसी दलित महिला की हत्या करने वाले स्थानीय अपराधियों के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया।
सरोज को 2013 में व्यापार और उद्योग के लिए पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्हें भारत सरकार द्वारा मुख्य रूप से महिलाओं के लिए भारतीय महिला बैंक के निदेशक मंडल में नियुक्त किया गया था।  वह भारतीय प्रबंधन संस्थान बैंगलोर के बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में भी कार्य करती हैं। यह एक ‘रग्स टू रिचेस’ कहानी है, जो इतनी विस्मयकारी है कि इसने हमारे सभी दिलों को शुरुआत में पिघला दिया लेकिन अंत में बहुत ही दृढ़ और प्रेरित किया।
पद्मश्री डॉ कल्पना सरोज भारत की पहली महिला उद्यमी के रूप में भी जानी जाती हैं। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि  हर कोई जन्म से ही भाग्यशाली नहीं होता है, लेकिन जीवन हमेशा भाग्य को तय करने और फिर से उसे लिखने का मौका देता है। वह कहती हैं कि मेरा वास्तविक जीवन संघर्षो से भरा है मैं एक ऐसे परिवार में पैदा हुई थी जिसे समाज ने कभी स्वीकार नहीं किया। मेरा बचपन झुग्गियों में बीता, एक ऐसा बचपन जो किसी बुरे सपने से कम नहीं था।
मैंने अपने जीवन से एक बात सीखी है कि हमें कभी भी जोखिम लेने से नहीं डरना चाहिए।  क्योंकि ये जोखिम हमारे जीवन में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित होते हैं। इसलिए, हमें हमेशा याद रखना चाहिए कि कठिनाइयों के बावजूद हमें लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और उसे प्राप्त करने के लिए काम करना चाहिए। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए फ्लो लखनऊ चैप्टर की चेयरपर्सन  सिमू घई ने कहा कि इंसान  कठिन समय में ही अधिक लोगों के समूह का निर्माण करता है।उन्होंने कहा कि सरोज जी का जीवन उनके लिए कभी निष्पक्ष नहीं रहा लेकिन फिर भी वह हम सभी के लिए  प्रेरणादायक है। इस  शानदार आयोजन में कमानी ट्यूब्स के प्रबंध निदेशक गोरे, रेणुका टंडन , माधुरी हलवासिया, स्वाति वर्मा , वंदिता अग्रवाल,शमा गुप्ता,निवेदिता सिंह, वनिता यादव, स्वाति मोहन, निवेदिता गोयल, सिमरन साहनी और अन्य सहित 100 से अधिक सदस्यों ने भाग लिया।

About Samar Saleel

Check Also

बिधूना : सीएचसी के प्रसव कक्ष में लगेगी एसी, क्वालिटी सर्किल बैठक में पाये गये गैप्स को भरने पर हुई चर्चा

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें बिधूना। औरैया जिले के कस्बा बिधूना में स्थित ...