Breaking News

साहित्य/वीडियो

वो शायर जो सबसे अलग हैं…

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें जिसकी शायरी अपने बदन पर हिंदी का लिबास ओढ़ती है और जो अपने होंठों पर उर्दू की लाली लगाती है, उस शायर की पहचान न केवल गंगा-जमुनी  तहज़ीब की मौजों की हिफ़ाज़ात करना है बल्कि अपने मुल्क की गाँव-गलियों में घटने वाली हर ...

Read More »

सफर

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें सफर ये उदासी का सफर कब तक रहें यूं दरबदर बोझिल हुए अपने कदम ढूढते मंजिल किधर।। ये उदासी का सफर। व्यर्थ ही बीते प्रहर धूप छांव सब कहर पांव के कांटे निकाले अनवरत व्यथित मन पीड़ित है तन।। ये उदासी का सफर। ...

Read More »

बुलंद इरादे

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें बुलंद इरादे अपनत्व के दावे चांद तारे तोड़ लाने और जान की बाजी लगाने के वादे बहारों में मन को है बहलाते लेकिन पतझड़ में अलग होने लगते है साथ देने वाले बन जाते है बेगाने फिर बेरुखी की बातें दूर हो जाती ...

Read More »

खुद पर रोशनी कम डालिए, तभी तो दूसरों को देख पाओगे

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें लोहड़ी और मकर सक्रांति आ रहे हैं। ये नए साल के ये पहले त्योहार हैं। पुराने साल के ज्यादातर त्योहार हम मना नहीं पाए। पुराने साल की कड़वी यादें सभी के पास हैं, पर अच्छी बात यह है कि हम सभी का वह ...

Read More »

मौन का संगीत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें मौन का संगीत अब किसी के दिल में बस कर फिर कहीं जाना ना हो। जिंदगी की धूप छांव चाहे तीखी हों हवाएं साथ चलते ही रहें कोई अनजाना ना हो।। धड़कनों का राग अपना मौन का संगीत कितना चल रही है गीत ...

Read More »

चांद और स्मृति

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें चांद और स्मृति विस्तृत, अनंत, शांत नभमंडल में, काली घटा की कालिमा घटाकर। नीरवता को समेटे शनै:शनै: विचरता, पूर्ण रात्रि का अर्द्ध-चन्द्र। अनगिनत प्रेमी प्रेमिकाओं के प्रेम संदेश लिए, भटक रहा है, यत्र-तत्र हल्कारे-सा। उसके इस भटकाव की सहचर हैं, निहारिका परिवार की ...

Read More »

मैं शहर हूं

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें ◆◆ मैं शहर हूं ◆◆  हाँ, मैं शहर हूँ जागा हुआ रहता रात भर हूं चैन की नींदें कहां भाग्य मेरे व्यस्तता ही रहती हमेशा साथ मेरे चाहता हूं मैं भी कभी हो सवेरा ऐसा जब ना कोई बेसबर हो शांति भरी हो ...

Read More »

उसकी याद

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें उसकी याद कितने दिनों के बाद उसकी याद आई है, यूं ही नहीं ये दिल की कली मुस्कराई है। अपना रखूं ख़याल कि दुश्मन की देख भाल, अल्लाह जाने क्या मिरे दिल में समाई है। दिखने लगा है मेरी मुहब्बत का अब असर, ...

Read More »

तब प्रेम नहीं कर पाऊंगी

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें तब प्रेम नहीं कर पाऊंगी कोई और होता तो समझ आता। दिल ये मेरा कुछ सम्भल जाता।। जो ये तूने किया तो कहाँ जाऊं मैं। शीतलता दिल की कैसे पाऊं मैं।। मैंने तुमसे निस्वार्थ प्रेम किया था। अपना तन-मन तुमको दिया था।। धन-दौलत, ...

Read More »

रिश्तों की अहमियत

🔊 खबर सुनने के लिए क्लिक करें रिश्तों की अहमियत मात-पिता के रिश्ते की जो ना जाने कद्र वो कुलांगार है, सच्चा रिश्ता वो होता है जो रिश्तों की माला करता कण्ठागार है। रिश्तों को रखें उलझाए हर पल जो वो रिश्तों का कसूरवार है, कभी हद से बढ़ जाती ...

Read More »