Breaking News

संसार के समाने पाक कर रहा दिखावा,हाफिज सईद पर नही हो…

हाफिज सईद की पाक में गिरफ्तारी ने संसार में बढ़ते टेररिज्म व उसके प्रति उत्तर में होने वाली कार्रवाइयों पर एक नयी बहस छेड़ दी है. वैसे तो पाक इस बात का दिखावा कर रहा है कि ग्लोबल आतंकवादी हाफिज पर कार्रवाई कर उसने बहुत बड़ा कदम उठाया है, लेकिन सवाल उठता है कि क्या वाकई पाक इस तरह की कारवाइयों के लिए गंभीर है या वह केवल संसार के समाने दिखावा कर रहा है. हाफिज की गिरफ्तारी ने छेड़ी बहस आतंकी संगठन जमात-उद दावा के मुखिया व मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को बुधवार को पाक काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट ( CTD ) ने अरैस्ट कर लिया.हाफिज की गिरफ्तारी को इमरान खान सरकार के लिए एक बड़ी कामयाबी माना जा रहा है. पाक की मीडिया अब पीएम इमरान सरकार की खूब तारीफ कर रही है. अपने इस कदम के जरिये पाक संसार को यह संदेश देने की प्रयास कर रहा है कि पाक असल में आतंकवाद के विरूद्ध लड़ाई लड़ रहा है. इस बात के भी दावे सामने आने लगे हैं कि इमरान खान ने आतंकवाद को लेकर जीरो टॉलेरेंस की नीति अपनाई है. लिहाजा हाफिज सईद की गिरफ्तारी आतंकवाद के विरूद्ध लड़ाई में बढ़ाया गया एक कदम है. लेकिन जानकारों की मानें तो पाक का आतंकवादी नेटवर्क इतना मजबूत है कि केवल एक आतंकवादी की गिरफ़्तारी से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. गंभीर नहीं है पाक इस बात पर भी सवाल उठना लाजिमी है कि पकिस्तान इस तरह की कार्रवाइयों लेकर कितना गंभीर है. अभी तो पाक के ऊपर एफएटीएफ की धमकी का प्रभाव साफ दिखा रहा है. एफएटीएफ एक वैश्विक संगठन है जो आतंक के वित्तपोषण के विरूद्ध कार्य करता है व ऐसे देशोंऔर संगठनों पर बैन लगाता है जो किसी भी तरह आतंक या आतंकवादी नेटवर्क की आर्थिक मदद करने में लगे हैं. एफएटीएफ की कार्रवाई का भय बीते दिनों एफएटीएफ ने अपने प्रस्ताव में बोला था कि अगर पाक अगले दो महीने में कोई ठोस कार्रवाई नहीं करता तो उसने बैन किया जा सकता है. वैसे पाक इस संगठन की ग्रे-लिस्ट यानी निगरानी सूची में पहले से दर्ज है.

अगर आतंकवादियों की मदद करने वाली पकिस्तान की छवि नहीं टूटती है तो एफएटीएफ कोई भी कड़ी कार्रवाई कर सकता है. इससे पहले से बदहाल पाक व भी कंगाल हो जाएगा व उसे संसार के किसी भी संगठन से आर्थिक मदद मिलनी कठिन हो जाएगी. भारत समेत संसार के लिए बड़ा खतरा भारत द्वारा बालाकोट में की गई एयर स्ट्राइक के बाद आतंकवादियों ने दहशत के मारे पाक छोड़ दिया है. हिंदुस्तान की एयर स्ट्राइक के बाद पाक स्थित आतंकी समूहों ने अफगान आतंकी समूहों के साथ हाथ मिला लिया है व अफगानिस्तान में अपना बेस कैम्प स्थापित किया है. इस बात का दावा किया जा रहा है कि जैश-ए-मोहम्मद व लश्कर-ए-तैयबा के अड्डे अफगानिस्तान में चले गए हैं. इसको देखते हुए हिंदुस्तान ने काबुल में अपना वाणिज्य दूतावास को हाई अलर्ट पर रखा है. निश्चित ही यह रिपोर्ट कोई सुखद नहीं है.

अफगानिस्तान स्थित तालिबान का आतंकवादी नेटवर्क भी जैश व लश्कर के करीब माना जाता रहा है. अफगानिस्तान से इन आतंकवादियों के लिए मध्य एशिया के रास्ते यूरोपीय राष्ट्रों में दाखिल होना कोई बड़ी बात नहीं है. दूसरा यह कि ये ही आतंकवादी पाक-अफगान सीमा के कबायली इलाकों से होते हुए गिलगित बाल्टिस्तान के रास्ते हिंदुस्तान में दाखिल हो सकते हैं. कुल मिलाकर स्थिति यह है कि इन आतंकवादियों के लिए अफगानिस्तान में स्थापित हो जाना बेहद लाभकारी है. भररत सहित संसार के कईइलाके अब सीधे-सीधे इन आतंकवादियों के निशाने पर आ गए हैं. अगर समय रहते इस नेटवर्क को ध्वस्त नहीं किया गया तो आने वाले वर्षों में यह हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पूरी संसार के लिए सबसे बड़ी चुनौती साबित होने कि सम्भावना है.

About News Room lko

Check Also

‘दो वर्ष बाद शेर बहादुर देउबा बनेंगे प्रधानमंत्री’, केपी शर्मा ओली ने किया सात सूत्रीय समझौते का खुलासा

काठमांडू:  नेपाल में हाल ही में बड़ा राजनीतिक घटनाक्रम देखने को मिला है। केपी शर्मा ...